एक नामर्द की बीवी को चोदा

loading...

हैल्लो दोस्तों, आप सभी को राकेश का सलाम, नमस्ते. दोस्तों मेरे पास एक फोन आया और उसने अपना नाम अनिल बताया और वो थोड़ा हिचक भी रहा था. फिर मैंने कुछ नहीं बोला और उसने फोन काट दिया.

फिर अगले दिन फिर से फोन आया तो मैंने बोला कि अनिल जी क्या बात है बताइए? तो उसने कहा कि कुछ नहीं तो मैंने कहा कि नहीं कुछ तो बात है. फिर उसने संकोच करते हुए बताया कि वो सेक्स नहीं कर सकता जिसके कारण उसकी वाईफ बहुत परेशान रहती है और उसे ऐसा लगता है कि वो अंदर-अंदर से घुट रही है, क्योंकि कभी वो वाचमैन को देखती है तो कभी किसी और को देखती है. फिर मैंने कहा कि आप मुझसे क्या चाहते है? तो उन्होंने कहा कि वो चाहते है कि में उनकी वाईफ के साथ सेक्स करूँ, उनका कहना है कि अगर वो किसी जानने वाले से कहेंगे तो बदनामी होगी इसलिए वो मुझसे कह रहे है.

फिर उसने कहा कि वो अपनी वाईफ से बहुत प्यार करता है इसलिए उससे उसकी तकलीफ़ देखी नहीं जाती. तो मैंने कहा कि अगर आपकी वाईफ तैयार हो तो में बात कर सकता हूँ, फिर उसने मुझे अपनी वाईफ का नंबर दिया और बोला कि में बात करूँ. फिर मैंने बोला कि नहीं पहले आप बात कर लो, फिर मुझे बता देना तो उसने कहा कि ठीक है. फिर अनिल ने मुझे अगले दिन फोन किया और बताया कि वो तैयार है और मुझसे बात करवाई. फिर में बात करके उनके घर गया. अनिल दिखने में तो ठीक था, लेकिन वो सेक्सुअली कमजोर था और उसकी वाईफ मानो बला की सुंदर थी, वो हल्की सी सांवली, मस्त बूब्स और कटीले नयन मानो मार ही डालेगी.

फिर मैंने कहा कि अनिल जी दो मिनट में बात करना चाहता हूँ तो अनिल जी बाहर चले गये. फिर मैंने बोला कि आपको कोई प्रोब्लम तो नहीं है ना तो उसने कहा कि वो सच में गार्ड से चुदवाने की सोच रही थी, लेकिन बदनामी से डर रही थी. फिर मैंने उसे बताया कि सच में तुम्हारा पति तुमसे बहुत प्यार करता है जो ये करने को भी तैयार हो गया. तो मीरा ने बताया कि वो क्या कर सकती है? शादी के एक साल बाद तक वो अभी भी कुंवारी है, उसके पति का निकालते ही झड़ जाता है. फिर मैंने कहा कि कोई बात नहीं, लेकिन तुम मुझसे वादा करो कि तुम अपने पति से प्यार करती रहोगी तो उसने कहा कि ठीक है.

फिर मैंने बोला कि जब तुम बोलोगी में तुम्हारे शरीर को प्यार दूँगा, लेकिन अपने पति का ध्यान रखना. फिर मैंने अनिल से कहा कि वो 2 घंटे बाहर घूमकर आ जाए तो वो चला गया. फिर मैंने मीरा से कहा कि अब यहाँ हम दोनों ही है और जो आग लगी है निकाल लो. फिर मीरा भूखे इंसान की तरह मुझसे लिपट गई और मुझे किस करने लगी. अब किस करते-करते वो बताने लगी कि वो कब से प्यासी है? फिर उसने कहा कि और कुछ दिन इंतजार करना होता तो वो किसी से भी चुदवा लेती. फिर मैंने कहा कि उसकी जरुरत नहीं पड़ेगी, में हमेशा उसे खुश करने आऊंगा. अब वो बड़े प्यार से मुझे किस करने लगी थी और धीरे-धीरे मेरे कपड़े उतारने लगी और अब वो मेरा लंड देखकर और पागल हो गई थी.

फिर उन्होंने अचानक से मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपोप जैसे चूसने लगी. फिर मैंने भी धीरे-धीरे उसे पूरा नंगा कर दिया, उसकी चूत बिल्कुल क्लीन और गीली हो रही थी. फिर मैंने उसकी चूत को अपने हाथ से सहलाया मानो उसकी चूत भट्टी जैसे तप रही थी. फिर मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया, अब वो तड़पने लगी और बोली कि मेरा पति भी चूत चाटता है, लेकिन तुम्हारे चाटने का अंदाज़ ही अलग है आह ऑश राकेश आह वूहह ह हहूओ फह ऑश उम्म आ ओह मज़ा आ रहा है. अब में 69 की पोज़िशन में आ गया था, अब वो भी मस्त होकर मेरा लंड चूसे जा रही थी ऐसा लग रहा था मानो लंड से एक-एक बूंद निकाल लेगी और करीब 20 मिनट तक लंड चूसते-चूसते में उसके मुँह में ही झड़ गया और अब वो भी झड़ गई थी.

फिर उसने कहा कि आज तक चूत चुसवाने में इतना मज़ा कभी नहीं आया. अब मुझे ऐसा लग रहा था मानो जन्नत में हूँ. फिर वो उठी और पेशाब करके आई तो में भी मुठ मारकर आया, थोड़ा पानी पिया, फिर थोड़ी देर बातें की, फिर किस का सिलसिला शुरू हुआ. अब वो मेरे सारे बदन को चूस रही थी, फिर मैंने सीधा लंड उसके मुँह में डाल दिया तो वो मस्त होकर उसे चूसने लगी और मेरा लंड उसके मुँह में ही बड़ा होने लगा. फिर मैंने उसकी चूत पर ढेर सारा थूक लगाया और अपने लंड को सहलाने लगा.

अब वो भी सिसकारियां भरने लगी थी, फिर मैंने उसकी चूत को सहलाते हुए अपना लंड थोड़ा सा अंदर डाला तो उसने मेरे सीने पर काट लिया, उसकी चूत बहुत टाईट थी. फिर में रुक गया तो उसने काटना बंद किया और कहा कि बहुत दर्द हो रहा है, निकालो इसे. फिर मैंने कहा कि थोड़ा रूको अभी मज़ा आएगा तो उसने कहा कि ठीक है, लेकिन प्यार से करना. में उसे फिर से किस करने लगा और अपना लंड रगड़ने लगा. फिर जब मुझे लगा कि अब वो ठीक है तो मैंने एक ज़ोर का धक्का लगाया तो उसने फिर मेरे बाल खींचे और वो मेरे सीने पर दाँत चुभाने लगी.

अब में धीरे-धीरे अपनी रफ़्तार तेज करता गया. अब वो भी मस्त होकर चुदवाने लगी थी, अब वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और अपनी गांड उछाल-उछालकर मेरा लंड पूरा अंदर ले रही थी. फिर वो डॉगी पोजिशन में आ गई और मैंने उसे खूब जमकर चोदा, अब वो आह ओह बस मज़े ले रही थी. फिर मैंने उसे दीवार के सहारे खड़ा करके भी चोदा. अब मेरा वीर्य निकलने वाला था तो फिर मैंने उसे बेड पर लेटाया और अपनी पूरी रफ़्तार से चोदा और अपना सारा वीर्य कंडोम में निकाल दिया. अब वो गहरी साँसे ले रही थी और ख़ुशी से मुझे चूम रही थी. फिर मैंने उससे कहा कि सफ़र कैसा रहा? तो उसने कहा कि मस्त, बस कभी-कभी हमसफर बनने आ जाया करना और उसके बाद हमने खूब सेक्स किया और मैंने उसे पूरा संतुष्ट किया.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...