एक रात आंटी के साथ

loading...

मे एक इंजिनियर हू मेरा नाम विजय (नाम चेंज्ड) ये बात तब की है जब मे बंगलोरे मे था जॉब कराता था मेरा ऑफीस और घर थोड़ा पास मे ही था तो मुझे कोई परेशानी नही होती थी ट्रॅवाले करने मे और बहुत ही टाइम सवे होता था मे केटिब 6:30 पीयेम तक मेरे रूम पे पहुच जाता था. आपार्टमेंट मे मैने ग्राउंड फ्लोर पे एक 2भक ब्लॉक रेंट पे लिया था. वो पूरा नया ही बिल्डिंग था जिसमे मैं ही पहला रेसिडेंट था.

वैसे ही थोड़े दिन निकलते एक कपल आया मेरे ही बिल्डिंग के 3र्ड फ्लोर पे जो की राजस्थानी था वो दोनो न्यूली वेड्डेड कपल थे दोनो मेरे स्टेर्स तो मेरे ब्लॉक के बगल मे ही था तो वो तॉज़ मेरे ब्लॉक से ही गुज़राते थे तो वैसे ही हम लोगोंकी बात होने लगी जब की संडेस पे छुट्टी का टाइम रहता था तो वो दोनो मेरे घर पे आते थे टीवी देखने के लिए टाइम पास करने के लिए ऐसा ही चलता रहा.

थोड़े ही दीनो मे फ्रेंडशिप थोड़ी अच्छी हो गयी तो राजेश ने एक दिन मुझसे कहा “अर्रे विजय तुम तो दिन भर ऑफीस मे रहते हो मे भी शॉप मे रहता हू मेरी वाइफ (निकिता) रोज़ घर मे अकेली रहती है पूरा दिन अकेली बोर होती है” तो मैने बोला “हा तो मैं क्या कर सकता हू ???” तो राजेश ने बोला “कुछ नही अगर तुम बुरा नही मानोगे तो एक रिकवेस्ट है” मैने बोला “हा बताओ क्या बात है” तो उसने पूछा “तुम्हारी घर की चाबी अगर तुम मेरी वाइफ को दे सकते हो तो अच्छा रहेगा जब भी उसे बोर होगा तो वो आके टीवी देखते बैठ सकती है तुम्हारे घर मे” देन मैने बोला “ओक नो प्राब्लम बुत थोड़ा ध्यान से बॅचलर का रूम है चीज़े इधर उधर पढ़ी रहती है”.

loading...

वैसे ही डेज़ पास्ड और एक दिन मेरा ऑफीस थोड़ा जल्दी ख़त्म हो गया तो मैं 5 बजे ही घर पहुच गया उस दिन निकिता बैठी थी घर पे टीवी देख रही थी तो मैं शॉक सा हो गया वो मेरे ब्लू फिल्म्स की द्वडस लगा के देख रही थी तो वो सडन्ली दर गयी तो मैं कुछ नही बोला तो उसने द्वड प्लेयर बंद कर दिया और नॉर्मल टीवी चालू करके निकल रही थी तो मैने उसे रोका और बोला “अर्रे बैठो ना नो प्राब्लम कुछ ग़लत नही है” देन वो बैठी डारी हुई थी उसने कहा “अर्रे विजय प्ल्स ये बात किसिको मत बताओ और तुम भी इस बात को इग्नोर कर दो प्ल्स ” देन मैने बोला “क ठीक है ” देन वो अगले दिन से रोज़ मेरे आने तक मेरर ही घर पे बैठी रहती थी जब मैं आता तो मेरे लिए चाय बनके लाती और दोनो देर तक बात करते बैठते थे मैं सिगरेट पिता था उसको उसके स्मोक से भी कुछ प्राब्लम नही था.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...