कंवारी बहन की चुदाई

loading...

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राजीव है और मेरी एक छोटी और एक बड़ी बहन है. छोटी है रिया १९ की, जो मुझसे ३ साल छोटी है. वो बहुत सेक्सी है. अब मैं स्टोरी पर आता हु. ये बात एक साल पहले की है. उस टाइम, मेरे दिमाग में रिया के लिए कुछ गलत नहीं था. पर एक दिन मैं टॉयलेट करने गया और जब टॉयलेट करके वापस आया, तो मैं अपना फ़ोन वहीं टॉयलेट के पास वाशबेसिन में भूल आया. मैं फ़ोन लेने के लिए वापस आया और जैसे ही डोर खोला, तो मैं एकदम से दंग रह गया. फिर मेरे दिमाग में हवस का शैतान हमला करने लगा. मैं उसके बारे में गन्दा – गन्दा सोचने लगा. वो नहा कर निकली और कुछ कहा नहीं. मैं उसे नंगा देख कर पागल हो गया था. अब मैं रिया को चोदना चाहता था किसी भी कीमत पर. मैंने मुठ मारी और सो गया. अगले दिन, मैंने रिया से बात करी और बोला – सॉरी, कल गलती से वो फ़ोन वहीँ रह गया था.

मुझे पता नहीं था, कि तुम अन्दर हो. वो बोली – कोई बात नहीं. तुमने सब कुछ देखा? मैंने कहा – हाँ, सब कुछ देख लिया. फिर मैंने रिया को बोला – एक बात बोलू रिया, बुरा तो नहीं मानोगी? वो बोली – नहीं, बताओ. मैंने कहा – मैंने कल तेरा सब कुछ देख लिया. तू मुझे बहुत सेक्सी लगने लगी है. मैंने तुझे फिर से एक बार देखना चाहता हु. वो बोली – तुम पागल हो गये हो क्या? मैंने कहा – एक बार तो देख ही लिया है. अब एक बार और देखने में क्या हो जाएगा. वो बोली – नहीं, ये गलत है. वो बोली – नहीं, ये गलत है. अगर किसी को पता चलेगा, तो. मैंने कहा – किसी को पता नहीं चलेगा. प्लीज एक बार .. बस एक बार.. प्लीज प्लीज.. वो बोली – ठीक है और वो शरमाते हुए, पूरी नंगी हो गयी. मैं तो सेक्स करके के लिए पागल हो रहा था. उसके खड़े गोल बूब्स और चिकनी चूत हहहहः … क्या बताऊ दोस्तों.. क्या क़यामत लग रही थी वो. मन कर रहा था, कि इसी तरह वहीं उसको चोद दू. पर मैंने अपने आप को कण्ट्रोल किया.फिर मैं उसे छुने लगा, तो वो मना करने लगी. पर मैं नहीं माना और उसके चुचे दबाने लगा और चूसने लगा और चूत को सहलाने लगा. वो मुझे हटा रही थी.

पर मैं नहीं माना और वो छुटने की जबरदस्त कोशिश कर रही थी. पर मैं उसे चूमता ही रहा. फिर वो भी गरम होने लगी और उस टाइम घर में भी कोई नहीं था. मैं मौके का फायदा उठाना चाहता था और उसे चोदना चाह रहा था. अब मैंने उसे नीचे लिटाया और अपना ८ इंच का लंड उसकी चूत में डालने लगा. एक धक्के में सिर्फ टोपा ही अन्दर गया और उसकी चीख निकलने लगी आआआआआआआआआअ .. ह्ह्ह्हह. फिर मैंने दूसरा जोरदार धक्का मारा, तो मेरा लंड उसकी सील तोड़ कर पूरा का पूरा उसकी चूत में घुस गया. वो बुरी तरह से चीखी.. आआआआअ आआआअह्हह्हह्ह … बाहर निकालो… बहुत दर्द हो रहा है. प्लीज निकालो.. प्लीज बाहर निकालो.. मैं मर जाउंगी.. उसकी तड़प को देख कर, मैं रुक गया और थोड़ी देर बाद, फिर से धक्के मारने स्टार्ट किये. अब वो भी मज़े ले रही थी. अहहहः और तेज और तेज अहहहः ऊऊऊउ मारो .. और जोर से. मैंने अपने धक्को की स्पीड बढ़ा दी और २० मिनट तक चोदने के बाद, अपना स्पर्म उसकी चूत में निकाल दिया. मैंने उसके ऊपर लेट गया और उसके चुचे चूसने लगा. फिर मैं उठा और उसके मुह में लंड दिया और वो उसको लोलीपोप की तरह चूस रही थी. मैंने १० मिनट तक उसके मुह में धक्का मारा और फिर उसके मुह में ही झड गया. वो मेरा सारा स्पर्म पी गयी.

loading...

जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...