गर्लफ्रेंड की चूत

loading...

मैं इस वेबसाइट को काफी समय से जनता हु और मैं काफी समय से यहाँ पर शेयर किये गये रियल अनुभव को पढ़कर मज़े लेता रहा हु और सहराना भी करता रहा हु. आप सब लोगो की सच्ची कहनिया पढ़कर मुझे भी अपनी कहानी आप लोगो के शेयर करने का मन किया. तो अब मैं सब लोगो का टाइम वेस्ट ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हु. मेरे लंड का साइज़ ८ इंच लम्बा और २.५ इंच मोटा है. मेरी एक गर्लफ्रेंड है रानी, बहुत ही सेक्सी है वो. उसका फिगर ३२-२८-३४ का है और उसकी गांड जब भी मेरी नज़रो के सामने आती है, तो मेरा लंड एकदम खड़ा हो जाता है और उसे मारने का मन करता है. रानी मेरी क्लासमेट थे और हम दिन में काफी वक्त साथ गुजरा करते थे. दिन पर दिन, वो सेक्सी होती जा रही थी और मेरे अन्दर उसको चोदने की इच्छा भी प्रबल होने लगी थी और मैं अब उसके शरीर को छुने का और उसको चोदने के मौके की तलाश में रहने लगा था. एक- दो बार, जब मैं उसको छुआ तो उसने कोई विरोध नहीं किया. बल्कि स्माइल कर दी. मुझे समझ आ गया था, कि दोनों के शरीर में आग बराबर लगी है.

एकदिन, हम दोनों अकेले लेब में काम कर रहे थे. तो मैंने धीरे से उसे पीछे से पकड़ लिया और उसे पीछे से चूमने लगा. वो भी मेरा साथ देने लगी थी. मैंने समय के नजाकत को समझते हुए जरा भी देर नहीं की और मैं उसकी चूत तक अपनी ऊँगली ले गया और अन्दर घुसा दी. उसने भी अपने पेरो को थोडा चौड़ा कर दिया और ऊपर- नीचे होने लगी. मेरे कान में उसकी धीमी- धीमी आहो अहहहः उह्ह्ह्हह्ह ह्ह्हम्मम्मम की आवाज़े आने लगी. फिर, मैंने अपना लंड निकाला, तो वो देखती ही रह गयी और डर गयी. मैंने अपना लंड उसके हाथ में पकड़ा दिया. उसने मेरा लंड हिलाया और मैंने उसे लंड को चूसने को बोला. वो मना कर ने लगी और फिर मैं जबरदस्ती अपने लंड को उसके मुह में ठेलने लगा. तो उसने मेरे लंड को अपने मुह में ले लिया और चूसने लगी. क्या बताऊ दोस्तों, मुझे लगा कि मैं जन्नत में पहुच गया हु. तभी हमें किसी के आने की आवाज़ आई और देखा तो सर आ गये थे. पीछे होने के वजह से वो हमने देख नहीं पाए और हम रुक गये. पर अब मुझसे कण्ट्रोल नहीं हो रहा था.

तो हम दोनों रोज़ फ़ोन सेक्स करने लगे. मैं उसको चोदने के रोज़ सपने देखता था और एकदिन, मेरा सपना पूरा हो गया. हम एकदिन घुमने गये थे, तो लौटते समय तेज बारिश आने लगी. मैंने कहा – किसी होटल में रुक जाते है. वो रुकने के तैयार नहीं थी. मैंने उसे फ़ोर्स किया, कि वो मान गयी और अपने घर फ़ोन कर दिया, कि वो अपनी सहेली के यहाँ रुक रही है. फिर, हमने एक होटल ले लिया और डबल रूम बुक करवा लिया. अन्दर जाते ही, मैंने “नो डिस्टर्ब” का बोर्ड बाहर लगा दिया. मैंने अन्दर से कमरा लॉक कर दिया. वो अपने कपड़े उतार रही थी, क्योंकि हम दोनों बहुत ही गीले हो चुके थे. उसने मुझे भी कपड़े उतारकर तोलिया लपेटने को बोला. मैंने अपने कपड़े उतार दिए और तोलिया लपेट लिया. लेकिन, मैं अन्दर से पूरा नंगा था. वो भी अपनी ब्रा- पेंटी में थी. उसके सेक्सी बदन को देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया. मुझे उसकी पेंटी में से झांकती हुई गांड दिख रही थी. क्या गजब गांड थी उसकी!

loading...

जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...