चुदाई के लीये तडपती हूई भाभी की चुदाई

loading...

बात 3 मंत्स पहले की है मैं बोहट बीमार हो गया और मैं आपनी सिस्टर के पास चला गया लुधियाना जो की डॉक्टर है|

और वो किसी के घर में पेयिंग गेस्ट रहती है और उसके लॅंडलॉर्ड बोहट ही अच्छे है पर भाभी बोहट ही हॉट है.

कजिन के लॅंडलॉर्ड के एल्डर सोन का आक्सिडेंट हो गया था और वो 4 मंत्स से बेड पर ही है और ना ही कुछ बोलता है और ना ही चल सकता है और ऐसे में भाभी बोहट साद थी|

loading...

और किसी से ज़ियादा बात भी नही कराती थी और जब मेरी कजिन हॉस्पिटल चली जाती तो मैं रूम में अकेला ही हो जाता था और भाभी मुझे खाने को कुछ ना कुछ दे जाती थी.

एक दिन जब वो मुझे जूस देने आई तो उनकी आँखों में अलग सी चमक थी जैसे की वो मुझे न्यूड देख रही हो और मैने भाभी से पूछा की भाभी क्या बात है तो उन्होने कहा की कुछ नही बस ऐसे ही.

यूयेसेस दिन वो मुझसे खुल कर बात करने लग गयी और मैं उनसे उनकी लाइफ के बड़े में पूछने लगा और वो कुछ साद सी हो गयी मैने ज़ोर देकर पूछा की क्या बात है |

भाभी मुझे नही बताॉगी पहले तो वो बोहट माना कराती रही फिर बाद में बोहट ज़ोर देने से बताया की तुम्हे तो पता ही है की तुम्हारे भैया का आक्सिडेंट हो गया है और मैं 4 मंत्स से तड़प रही हूँ कोई नही है जो मेरी परेशानी को सॉल्व कर सके|

loading...

मैने पूछा की कैसी परेशानी आप मुझे बताओ मैं 101% ज़रूर सॉल्व करूँगा मैं कसम दे दी भाभी को.

भाभी तो मानू अंदर ही अंदर बोहट खुश हो गयी पर मुझे शो नही होने दिया|

और कहने लगी तुम्हे तो पता ही है एक लेर्की को क्या चाहिए होता है|

और वो मुझे घुमा फिरा कर बतने लगी मैं भी समाज़ चुका था की वो क्या चाहती है |

पर मैं उनके मूह से ही सुनना चाहता था और वो कहने लगी की मुझे सेक्स किए हुए 4 मंत्स हो गये है|

और मैं घर से बाहर भी कभी नही गयी और मेरी तड़प बोहट ज़ियादा बढ़ गयी है अब तो दिल कराता है किसी से भी चुदया लूँ|

जब उन्होने ने ऐसा कहा तो मैने भाभी का हाथ पाकेर लिया की भाबाही मैने आपसे प्रॉमिस किया था|

की मैं आपकी हेल्प करूँगा और ऐसा मौका आप मुझे दीजिए आप ज़िंदगी भर याद रखोगी की मैने कैसे आपको खुश किया.

मेरा लक इतना अछा था की नेक्स्ट दे मेरी कजिन के लॅंडलॉर्ड का प्लान बना की वो लोग भैया को दिखाने देल्ही लेकर जा रहे है और 3-4 डेज़ तक वापिस आएँगे और घर में मैं भाभी और मेरी कजिन ही रह गये थे और बाकी सब चले गये.

वो सब लोग मॉर्निंग में चले गये और थोड़ी सेर बाद मेरी कजिन भी हॉस्पिटल को निकल गयी|

और तभी मैं भाभी के रूम में गया भाभी मेरा ही इंतेज़ार कर रही थी और मैने भाभी को ज़ोर से हग किया और किस करने लगा वो तो मुझसे भी ज़ियादा जल्दी में थी और बोहट ही खुश थी.

मैं भाभी को किस कराता रहा और उनकी बॉडी पर और उनके बूब्स को दबाता रहा तभी मैने भाभी को बेड पर लिटा लिया और उनको बेड पर ही ज़ोर ज़ोर से किस कराता रहा|

और मैने फिर धीरे से भाभी का टॉप उतरा और उनकी कॅप्री भी उतार दी और अब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में ही थी |

और वो ब्रा और पेंटी में क्या लग रही थी बिल्कुल स्वर्ग की आप्सरा लग रही थी उनके 34द साइज़ के बूब्स बाहर आने को मतवाले हो रहे थे और उनकी पेंटी गिल्ली हो चुकी थी|


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...