चूत गीली गीली हो गई

loading...

हाय दोस्तों मेरा नाम अस्मा हे और में कोलेज गर्ल हूँ. दोस्तों मेरे क्लास में जितने भी में क्लास मिट हे लैब भग सभी से मेरी अच्छी बनती हे और आज तक ना किसी से कोई अनबन हुई हे ना किसी से मेरा कोई जागदा. में एक दम शांत स्वभाव की मिलनसार लड़की हूँ. हर किसी की मुझसे दोस्ती हो जाए.

इसी तरह दोस्तों मेरी दोस्ती हो गयी और वो दोस्ती हद से ज्यादा बाधा कर बढती गयी और प्यार में बदल गयी. और हम दोनों एक दुसरे से जीजान से मोहब्बत करने लगे हम दोनों एक दुसरे के बिना रह नहीं सकते थे नामुमकिन था हम दोनों को एक दुसरे के बिना रहना दोस्तों गवारा नहीं था हमें लेकिन अभी तो हमें सारे जहा से ये दोस्ती छुपा कर रखनी हे.

दोस्तों मेने अपने दोस्त का परिचय आप को नहीं दिया चलो में आपको उसका परिचय दे दू दोस्तों उसका नाम हारिस हे और वो भी मेरे साथ ही पढता हे. उसके घर में और कोई नहीं बस वो अकेला रहता हे. तो हम दोनों का प्यार मिलन उसके घर पर ही होता था.

loading...

इसी तरह हम दोनों उसके घर में अकेले ही बैठते थे. दोस्तों पहले तो हम दोनों दूर दूर से बात करते थे लेकिन अब हम दोनों जब भी उसके घर आते एक दुसरे से चिपक कर बैठते थे. और वो धीरे धीरे मेरे बदन पर हाथ फेरता रहता था.

उसका यु मेरे बदन से खेलना मुझे बहुत अच्छा लगता था. दोस्तों में अब अपनी कहानी के मोड़ पर आती हु हम दोनों हर दिन की तरह उस दिन भी उसके घर गए हम दोनों कुछ देर बेठे ही थे की मेरे घर से मेरी मम्मी का फोन आया और वो बोली की वो मामा की सास गुजर जाने की वजह से मामी के मेके जा रही हे तो शाम को लोटेगी.

अब दोस्तों हमें और क्या चाहिए फुल टाइम प्यार करने के लिए हमें मिल गया. दोस्तों हम दोनों एक दुसरे को खुसी के मारे इसे चिपके की फिर एक दुसरे से जुदा ही नहीं हुए और ये शाम तक चिप्कापन चलता रहा. दोस्तों खुसी के मारे हम दोनों एक दुसरे से चिपके जरुर थे लेकिन उस चिपकने की अदा  ही कुछ एसी  थी की हम दोनों को अलग ही करंट दे गयी.

ना में उससे अलग होना चाहती थी और ना ही वो दूर होना चाहता था. फिर तो वो चालू ही पड़ गया अब तो वो सिर्फ मेरे बदन पर हाथ नहीं गुमाँ रहा था बल्कि वो हलकी हलकी किस भी कर रहा था. वो धीर धीरे करते हुए मेरे लिप्स तक आया फिर उसने मुझे १० मिनट तक की एक लम्बी लिप  किस की.

loading...

फिर वो धीर धीरे से आगे बढ़ता गया मेरे होठो से होकर वो आगे बढ़कर  मेरी गरदन तक पहोंचा और फिर वो मेरी गरदन पर मुझे किस करने लगा वो कभी कभी झोस में आकर मुजे बाईट  भी कर लेता था लेकिन अच्छा लगता था.

अब वो धीरे धीरे करके निचे सरकने लगा. वो मेरी गरदन से उतर कर मेरी छाती तक आया और मेरी छाती पर मेरे सिने  पर किस करने लगा वो चूस रहा था मेरे बदन को.फिर वो हलके से मेरे बूब्स पर किस करने लगा. बहुत मजा आ रहा था दोस्तों.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...