दिल्ली वाली भाभी की चुदाई

loading...

हेलो दोस्तों, आपका सनी एक बार फिर से हाज़िर है आपके लिए एक मस्त स्टोरी लेकर! मुझे बहुत सारे लोगो के रेस्पोंस आये और बहुत सारी लडकियों ने मेरी चुदाई को बहुत- बहुत सराहा. इतने सारे प्यार के लिए, आप सब लोगो को धन्यवाद. मैं एक ऍमएनसी कंपनी में एम्प्लोय हु और एक पंजाबी लड़का हु. अच्छी- खासी बॉडी है और ८ – १० लडकियों को भी चोद चूका हु और मैरेड गर्ल्स को भी बहुत संतुष्ट कर चूका हु और १००% सीक्रेट रहती है मेरी फ्रेंडशिप. तो दोस्तों, आपको अपनी कहानी बताता हु, जो की लास्ट मंथ हुई मेरे साथ. ये मेरी लाइफ का सबसे अच्छा खुबसूरत टाइम था अब तक का. दिल्ली की मर्सिडीज वाली भाभी को पटाया एक ही दिन में और फिर जालंधर में बुलाकर होटल में एक दिन तक भाभी को चोदा. मैं अपनी कंपनी के काम से दिल्ली गया हुआ था और काम ख़तम होने के बाद, मैं अपने फ्रेंड के घर हु रुक गया और मैंने नेक्स्ट दिन की रात की ट्रेन बुक कर रखी थी दिल्ली से जालंधर की. मेरे फ्रेंड ने कहा – चल मूवी देखने चलते है.

वो सैटरडे था. हम दोनों दोपहर का १२ बजे वाला मूवी का शो देखने चले गये और मूवी तो बहुत मस्त चल रही थी. जब २०-२५ मिनट की मूवी निकली, तो मेरी नज़र हमारे जस्ट पीछे वाली रो में बैठी हुई भाभी पर गयी. वो मुझे ही देख रही थी. मैंने पहली ही नज़र में उसको फुल स्कैन कर लिया था. उसने रेड टॉप पहना था और बड़े- बड़े बूब्स थे उसके. जब मैं उसके बूब्स को ताड़ रहा था, तो वो हँसने लगी. फिर नेक्स्ट १०-१५ मिनट में मैंने ४-५ बार पीछे देखा, तो वो भी नज़रे मिला रही थी, तो मैंने नेक्स्ट टाइम जब देखा तो हेलो कह दिया. उसने भी मुझे हेलो बोला और मेरा दोस्त मुझे बोला – साले, मरवाएगा क्या? मैंने भाभी को इशारे में बोला, कि क्या मैं आऊ, आपके बगल वाली सीट पर? तो वो हँसने लगी फिर से. मैं हिम्मत करके उसके पास वाली सीट पर चले गया. मैंने उससे चुपके से हैण्डशेक किया और धीरे से नार्मल बातें करने लगा.

उसकी बातें से मुझे पता चला, कि उसका पति दुबई में रहता है और साल में १ बार ही आता है १ मंथ के लिए. वो अकेली ही मूवी देखने आई थी. मुझे उससे बातें करके बहुत अच्छा लगा रहा था और बातो-बातो में मैंने उससे फ़्लर्ट करना शुरू कर दिया. मैंने उससे कहा – आप तो मैरिड नहीं लगती हो. मेरी इस बात पर वो हँसने लगी और बोली – मेरा तो ४ साल का एक बेटा भी है. मैं हैरान हो गया. अब वो मेरे साथ कम्फ़र्टेबल फील करने लगी थी. अब हम दोनों में से कोई भी मूवी नहीं देख रहा था. हम बस दोनों एक दुसरे को देख रहे थे और बातें कर रहे थे. मूवी ख़तम होने के बाद, मैंने उसको अपना नंबर दिया और फिर बाहर साथ में आये. तो मुझे पता चला, कि उसके पास मर्सिडीज कार है. ओह माय गॉड! आई वाज शोकेड. वो बोली – चलो मैं तुम्हे छोड़ देती हु. वो मुझे और मेरे फ्रेंड को हमारे घर छोड़ने आई और फिर मैं रात को ट्रेन पकड़कर जालंधर वापस आ गया और यहाँ से शुरू होती है स्टोरी स्टार्ट.

loading...

हमारी एक हफ्ते तक फ़ोन पर दिन- रात बातें होने लगी और मुझे उसके बारे में उसने मुझे सब कुछ बताया. उसने बताया, कि जब भी उसका पति इंडिया आता है, तो वो उसे संतुष्ट नहीं कर पाता. उसने बोला, कि उसकी एक्स्पेक्ट्शन बहुत ज्यादा है. बट कुछ कर नहीं सकते. मैंने मजाक- मजाक में बोला, मैं ट्राई करू एक बार आपको संतुष्ट करने का? तो वो जोर से हँसने लगी. वो बोली – तुम मुझसे अभी बहुत छोटे हो और कैसी बातें कर रहे हो? मैंने उसको बोला – मैंने ३-४ भाभियों को संतुष्ट किया है और वो सब उसके बाद भी मेरे कांटेक्ट में है. उसके बाद, मैंने उसे मना लिया जालंधर आने के लिए. वो मर्सिडीज लेकर जालंधर आ गयी और उसने इन्टरनेट से पहले ही एक मस्त होटल में कमरा बुक कर लिया था. मैंने न्यू क्लोथ्स ख़रीदे एक दिन पहले और उसे मिलने गया उसके होटल में. वो अपने रूम में थी, क्या मस्त लग रही थी! उसने ब्लू टॉप और ब्लैक जीन्स पहनी हुई थी और वो एकदम श्रुति हसन लग रही थी और बाल भी स्ट्रेट करवाए हुए थे.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]

और कहानिया

loading...