पडोसी ने मेरी गांड मारी

loading...

हेलो दोस्तों, मेरा नाम सान्या है. मेरे एक पडोसी है रोमी जी. बहुत ही गरम और कामुक. उनके साथ ना जाने अब तक मैंने कितनी राते रंगीन की है और उनके लंड का मज़ा अपनी गांड को चखाया है. मैं आपका टाइम बिलकुल भी जाया नहीं करुँगी और सीधे स्टोरी लिखती हु. क्योंकि रोमी जी को और उनके लंड को याद करते ही, मेरी गांड एकदम से टाइट होने लगती है और मेरी गांड की खुजली मुझे बहुत ज्यादा बैचेन कर देती है. उस पूरी रात को रोमी जी ने मुझे चोदा और मेरी गांड को भी खोल कर अपने रस से भर दिया. उस रात. हम दोनों करीब एक बजे सोये थे. जब सुबह ७ बजे मेरी आँख खुली, तो मैने देखा, कि रोमी जी पीठ के बल सो रहे थे और वो बहुत ही सेक्सी लग रहे थे. उनके बदन को देख कर मेरी गांड में फिर से खुजली होने लगी. फिर भी मैंने उनको उठाया नहीं और उठ कर विंडो की तरफ चली गयी. विंडो ओपन की, तो जनवरी की ठण्ड और सर्द हवा बहुत ही मस्त लग रही थी. मैं अभी ब्रा और पेंटी में ही थी. सर्द हवा मेरे सेक्सी बदन को छु कर मस्त कर रही थी. मुझे ठण्ड लग रही थी. फिर भी मैंने कोई भी कपड़ा नहीं पहना था और ना ही मैं पहनना चाहती थी.

अचानक कुछ गरम मेरे कमर पर लगा, तो मैंने देखा कि रोमी जी मेरी कमर पर हाथ रखे हुए थे. उनका एक हाथ मेरी सेक्सी कमर पर था और एक हाथ मेरे हिप्स को सहला रहा था. हम दोनों चुप थे और सर्द हवा और एक दुसरे के जिस्म को महसूस कर रहे थे. मेरा एक हाथ उनके कमर वाले पर था और एक हाथ से मैंने पीछे से उनके सिर को पकड़ लिया था और सहलाने लगी थी. फिर वो नीचे झुके और मेरी कमर पर किस करने लगे. फिर मेरे पेट पर किस करना शुरू किया और फिर वो मेरी नाभि के अन्दर अपनी जुबान डालने लगे. फिर और नीचे जाकर मेरी थाई पर किस करते रहे. फिर वो मेरे हिप्स को चाटने लगे. थोड़ी देर के बाद, उन्होंने मुझे कान में कहा –

रोमी जी – रात को कैसा लगा?

मैं – (शरमाते हुए) बहुत अच्छा.

रोमी जी – खुल कर बताओ ना..

मैं – अच्छा लगा. ऐसा लगा, कि मैं पूरी हो गयी. बहुत बहुत अच्छा लगा. आपके लंड ने मुझे बहुत मज़ा दिया. मैं अब रोजाना आपसे चुदवाना चाहती हु.

रोमी जी खुश हो गए और बोले – बोलो और बोलो.

मैं – मेरी गांड अब हमेशा के लिए कभी भी कहीं भी सेवा के लिए हाज़िर है. मैं आपके लंड की प्यासी हु. मैं हमेशा आपका लंड अपनी गांड में या मुह में रखना चाहती हु. आपका लंड चूस – चूस कर और भी ज्यादा लम्बा कर दूंगी. आपका लंड बहुत मस्त है और ये मैंने रात को देख लिया था. और मेरे छेद में जा कर, ये मेरे छेद को और भी बड़ा कर देगा.

रोमी जी का लंड अब अपने रूप में आने लगा था, अपनी तारीफे सुन कर. मुझे अपनी गांड पर उनके लंड का कसाव महसूस होने लगा था.

रोमी जी – मैं भी तुम्हे कुतिया की तरह चोदना चाहता हु. अपनी रखैल बना कर रखूँगा तुझे. अपने रांड बना कर. रोज़ मज़े लूँगा तेरे से. तेरी जैसी कुतिया को कौन नहीं चोदना चाहेगा.

मैं – मैं भी आपकी रांड बन कर चुद्वायुंगी. पर मेरी कुछ शर्ते है. वो बोली क्या? मैंने कहा – आपको अगर पूरा मज़ा चाहिए, तो कभी मेरी ब्रा और पेंटी नहीं उतारोगे, क्योंकि मैं अब १ लड़की हु आपके लिए. आप जैसे चाहे मुझे चोद सकते हो. मेरी गांड मेरा मुह और मेरा पूरा जिस्म आपके लिए हमेशा रेडी रहेगा. चाहे मैं सो रही हु या जाग रही हो.

रोमी जी – तेरी जैसी रांड को चोदने के लिए, मुझे हर शर्त मंजूर है. तभी मैंने उनको हल्का सा धक्का दिया और पास में बेड पर जाकर लेट गयी. बेड पर, मैंने उनको अपनी बाहे फैलाकर उन्हें अपने पास बुलाया और जैसे ही वो मेरे पास आये, मैंने उन्हें हग कर लिया और फिर अपने होठो को उनके होठो पर रख दिया. उन्होंने मुझे किस करना शुरू कर दिया और १५ मिनट तक किस करते रहे. फिर वो मेरे लिप्स से होते हुए नीचे चले गये और मेरे पुरे जिस्म पर किस करने लगे. मैं मस्त हो गयी और उनका सिर पकड़ कर अपने पेट पर जोर से दबाने लगी. वो मेरी नैक पर, पेट पर और थाई पर किस करते रहे.

मैं – बस कीजिये. रोमी जी अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है. प्लीज मुझे चोद दीजिये. मुझे अब आपका लंड अपनी गांड में चाहिए. प्लीज जल्दी से मुझे चोद दीजिये. मैं आपके लंड की प्यासी हो चुकी हु.

ये सुनकर एकदम से जोश आ गया और उन्होंने मुझे कुतिया बना दिया और मेरे छेद में ऊँगली करने लगे. फिर अपने जुबान से चाटने लगे. अब मेरी गांड पूरी तरह से रेडी थी उनके लंड के लिए. उन्होंने मेरे हिप्स में बहुत थप्पड़ लगाये और अपना लंड मेरी गांड में १ ही झटके में डाल , दिया. फिर उन्होंने अपना लंड मेरी गांड में एक ही झटके में डाल दिया. अब दर्द नहीं हो रहा था, बल्कि मज़ा आ रहा था. मैं भी अपनी गांड पीछे करके उनका पूरा लंड लेना चाहती थी. अब वो तेज धक्के लगाने लगे थे.

मैं – अहः अहः अहहाह रोमी जी.. चोदिये.. और तेजी से चोदिये.. क्या गजब लंड है आपका रोमी जी. हहह अहहाह अहहाह अहहाह रोमी जी.. फाड़ दो.. मेरी गांड को कॉम ओन… और रोमी जी ने जबरदस्त धक्के लगाने शुरू कर दिए और वो बोलने लगे.. अहः अहः अहहाह मज़ा आ गया साली रंडी.. अब मैं रोज़ तुझे ऐसे ही कुतिया बना कर चोदुंगा.. और १५ मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद, वो मेरे अन्दर ही झड गये. उनका फुव्वारा मेरी गांड के अन्दर पूरी तरह से भर गया. उनका वीर्य मेरी गांड से टपक रहा था.

फिर हमने किस किया और सो गए. मैं उठी और बाथरूम में जाकर अपने आपको को शीशे में देखा. मैं ब्रा और पेंटी में क्या मस्त लग रही थी. उनके वीर्य को, को मेरी गांड में लगा था. अपने हाथ में लेकर जुबान से लगाया, क्या बढ़िया टेस्ट था. मैं ने उसे पूरा चाट कर साफ़ कर दिया. फिर मैं नहाई और घर के काम में बिजी हो गयी. दोस्तों, रोमी जी के साथ मेरा केवल ये ही एक सेक्स एनकाउंटर नहीं है. आगे की स्टोरी में मैं आपको बताउंगी, कि रोमी जी ने मेरी गांड को और किस – किस तरीके से चोदा…


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...