पापा की बुरी नज़र मेरी बीवी पर

loading...

हैल्लो दोस्तों, ये मेरी सच्ची घटना है जो कि में आपको बताने जा रहा हूँ. में जो भी लिख कर रहा हूँ वो 100% सच है और में स्टोरी में किसी का भी नाम उजागर नहीं कर सकता और न ही बता सकता हूँ कि मेरे घर में कौन-कौन है? अब में आपका ज्यादा समय ख़राब न करते हुए सीधे अपनी स्टोरी पर आता हूँ. मेरी लव मैरिज हुई थी और मेरी बीवी मेरे घरवालों को वो पसंद नहीं आई. अब शादी के बाद बहुत प्रोब्लम आने लगी थी, अब में बहुत परेशान रहता था. अब में वाईफ और माँ के झगड़े में फंस जाता था और अब मेरी लाईफ बहुत ख़राब हो गई थी.

फिर दिन निकलते रहे, फिर घरवालों ने मेरे कान भरने शुरू कर दिए और में भी उनकी बातों में आने लगा. फिर हमारे बीच झगड़े होने लगे और वो अपने घर चली गई, क्योंकि में उसकी साईड नहीं लेता था. फिर करीब 3 महीने तक हम अलग रहने लगे, फिर मेरे पापा ने बोला कि वो मेरी वाईफ के घरवालों के पास जाकर बात करेंगे और उनको मनायेंगे.

अगले दिन मेरे पापा उनके घर गये और उसको गारंटी दी कि वो उसको स्वीकार करेंगे और अपनी फेमिली में वापस ले लेंगे, लेकिन मेरी वाईफ को उनके कहने पर चलना होगा. फिर हमारे बीच समझोता हो गया और मेरी वाईफ घर आ गई. फिर मेरे पापा ने उसको कहा कि मेरी वाईफ मेरे पापा के कहने की वजह से घर में आ पाई है और उन पर मेरे पापा का एहसान है.

loading...

फिर कुछ दिनों के बाद मैंने नोटीस किया कि पापा मेरी वाईफ के साथ कुछ ज़्यादा ही फ्रेंक हो रहे थे, लेकिन मैंने उन पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया. फिर कुछ दिनों के बाद मैंने नोटिस किया कि बाथरूम के दरवाजे में छोटा सा छेद है, जिससे अंदर से बाहर देखा जा सकता था, लेकिन मैंने इग्नोर किया. फिर थोड़े दिनों के बाद एक दिन मुझे सुबह 7 बजे किचन में से मेरी वाईफ की आवाज़ सुनाई देने लगी, तो मैंने देखा कि पापा किचन में हमारे मंदिर में पूजा कर रहे थे और मेरी वाईफ टिफिन तैयार कर रही थी.

में भी ऑफीस के लिए तैयार होने लगा और फिर पापा ऑफीस चले गये. फिर में और मेरी वाईफ भी ऑफिस चले गए. फिर अगले दिन मुझे आइडिया आया और में जल्दी नहाने चला गया और थोड़ी देर तक उस छेद में अपनी आँखें डालकर बाथरूम में ही बैठ गया. मेरा बाथरूम और किचन आमने-सामने है और बीच में हॉल है.

अब मेरी वाईफ टिफिन तैयार कर रही थी और फिर पापा पूजा करने के लिए आए और मेरी वाईफ के कूल्हों पर टच किया और अपने लंड को सहलाने लगे. मेरी वाईफ ने उन्हें गुस्से से देखा और किचन से बाहर चली गई. अब मुझे बहुत अच्छा लगा कि मेरी वाईफ बिल्कुल साफ़ है, लेकिन गुस्सा भी आया कि मेरे पापा मेरी बीवी को चोदना चाहते है.

अब ये देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया था और मैंने मेरी वाईफ और पापा को देखकर मुठ भी मारी. फिर मैंने मेरी वाईफ से बाहर जाकर बात की और मैंने सुबह पापा को तुम्हारी गांड पर हाथ फैरते हुए देखा था. तो मेरी वाईफ रोने लगी और उसने मुझे जो बताया कि तुम्हारे पापा की नज़र बहुत खराब है, उन्होंने मेरी पीठ ही नहीं बल्कि मेरे बूब्स को भी टच किया है और वो ये रोजाना सुबह करते है, जब घर में सब सोए होते है और में टिफिन बना रही होती हूँ. वो मुझे बोलते है कि उनके एहसान की वजह से में यहाँ वापस आई हूँ, मेरे पापा ने मेरी वाईफ के हाथ में ज़बरदस्ती अपना लंड भी दिया था और फिर वो बहुत रोने लगी.

loading...

जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]

और कहानिया

loading...