पुरानी क्लासमेट की चुदाई

loading...

हेलो, दिस इस विनय. कैसे हो आप सब? क्या हाल है आपकी चूत के और लंड के. मैं उतराखंड से हु. मुझे मैरिड लेडी यानी भाभी और आंटी को चोदने में मज़ा आता है. मेरी आप की तरह बहुत सारी भाभी और आंटी दोस्त है. जिनके बदन को मैंने मसला, चूमा और उनकी चूत को चूसा और मस्त चोदा. उन्होंने मेरे साथ बिस्तर में खूब मज़े किये है और अपने शरीर की आग को शांत किया है. मुझे चूत को रगड़ना, मसलना और चुसना बहुत पसंद है और उनको अपने लंड से लम्बे समय तक चोदना बहुत पसंद है. अब मैं आपको ज्यादा बोर ना करते हुए, सीधे स्टोरी पर आता हु. मैं एक २६ साल का लड़का हु और एवरेज लूकिंग हु. मैंने मेरे लंड का साइज़ तो कभी नापा नहीं, पर इतना है कि मेरे लंड ने किसी भी भाभी को अधुरा नहीं छोड़ा और जिस भी भाभी या आंटी ने ने लंड का पूरा मज़ा लिया, उसने मेरे लंड को खूब प्यार किया. ये स्टोरी मेरी क्लास में पढने वाली एक लड़की है. जिसका नाम सपना था और उसका फिगर ३६-२८-३० था. उसके मोटे- मोटे बूब्स, पतली कमर गोल- गोल चुतड.. हाँ कोई भी देखे तो लंड खड़ा हो जाए. हम एक दुसरे को स्कूल टाइम में पसंद करते थे. लेकिन, बात कभी नहीं कर पाते थे.

कुछ टाइम पहले, हम एक दुसरे से अचानक से मिले और अपने नंबर एक्सचेंज किये. धीरे- धीरे बात करते- करते, एकदिन पता चला कि उसका पति उसको चोदता नहीं है. और वो रोने लगी, कि मैं क्या करू? मुझे सेक्स करना है बट मेरा पति तो कुछ करता ही नहीं है. तो मैंने उससे कहा – मैं करू? तो वो कहने लगी.. नहीं यार. वी आर फ्रेंड. मैं अपने पति से बहुत प्यार करती हु. मैं ऐसा नहीं कर सकती. मैंने उसे समझाया, कि अगर तुम सेक्स करना चाहती हो और तुम्हारा पति सेक्स नहीं करना चाहता है. तो तुम्हे किसी और के साथ सेक्स करना चाहिए. इस पर वो गुस्सा हो गयी और कहने लगी, मैं आपको रंडी लगती हु. जो किसी के साथ भी सेक्स कर लू. मैंने फिर से उसे समझाया और सॉरी कहा. कुछ टाइम बाद, हमने बाहर घुमने का प्लान बनाया. हम बाहर घुमने गये. तो सपना बोली, यार मैं थक गयी हु. सिर में दर्द हो रहा है. मैंने एक रूम रेंट पर लिया और उसे मेडिसिन देके सुला दिया. अब मैं अकेले बोर हो रहा था.. तो मैं भी सो गया उसके साथ. कुछ टाइम बाद, मुझे लगा कि वो अपनी गांड जानबूझकर मेरे लंड के पास कर रही थी.

मैं भी अपना लंड बाहर निकालकर सो गया और बाद में देखा, कि मेरे लंड को आराम से हाथ में लेकर हिला रही थी. मैं नीद का बहाना करके लेट गया और अब लंड ऊपर की तरफ हो गया. सपना खुश हो गयी और उसने अपना मुह मेरे लंड के पास लायी और मेरा लंड चूसने लगी. मैं तो जन्नत के मज़े लिए जा रहा था. मैंने उसे किस करना चाहा. हम दोनों सेक्स में एकदम पागल हो गये. मैंने उसका सूट और पजामा निकाल दिया और उसने ब्रा और पेंटी नहीं पहनी हुई थी. उसकी चूत एकदम साफ़ दी. पुरे शरीर में वेक्स करवा रखी थी. उसके ३६ के बूब्स मुह में लेकर चूसने लगा. कुछ देर बूब्स चूसने के बाद, मैं उसकी चूत की ओर बढ़ा. तो वो कहने लगी, कि पहले मुझे लंड को चूस लेने दो. फिर तुम आराम से चूत को चुसना और चोदना. वो मेरे कपड़े उतारने लगी और मेरा लंड चूसने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. कुछ देर बाद, मेरा निकलने लगा था, तो मैं उसे नीचे गिरा दिया. तब सपना बोली – मुझे लंड चुसना था.. आज मैं खुश हो गयी हु कि मैंने लंडपान कर लिया.

loading...

जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]

और कहानिया

loading...