बुआ की बेटी ने लौड़े को शिकार बनाया.

loading...

दोस्तो, मेरी उम्र 26 वर्ष है.. मैं मुरादाबाद का रहने वाला हूँ। मैं पेशे से इंजीनियर हूँ और चूत भोगने के लिए हमेशा तैयार रहता हूँ.. कभी भी कहीं भी..

आपकी तरह सभी लेखकों की बहुत सी कहानियाँ पढ़कर मुझे भी लगा कि मुझे भी अपनी एक सच्ची घटना लोगों से शेयर करनी चाहिए।
वैसे तो मैं बहुत सी चूतों का स्वाद चख चुका हूँ.. उनके बारे में कभी बाद में विस्तार से लिखूँगा।

अभी मेरी और निधि (परिवर्तित नाम) की कहानी का आनन्द लीजिए।

loading...

यह कहानी मेरी और मेरी फुफेरी बहन की है।
फुफेरी बहन यानि कि मेरी बुआ की बेटी.. उसने लगभग एक सप्ताह पहले ही अपनी जवानी की ओर पहला कदम बढ़ाया था.. मेरा मतलब है कि उसने अभी ही 18 वर्ष की आयु पूरी की थी।
उसका फिगर लाजवाब था.. यही कोई 32-24-34 का भरा हुआ जिस्म था।

उसकी जवानी देख कर ही मेरा लण्ड खड़ा हो जाता था।

एक दिन मेरी बुआ जी का फ़ोन आया कि निधि हमारे यहाँ गर्मी की छुट्टियों में आना चाहती है.. पर उसे लेने के लिए किसी को आना होगा।
जैसे ही मम्मी ने मुझ से ये बताया.. मैं तैयार हो गया और दोस्त से उसकी बाइक उधार लेकर बुआ की बेटी को लेने चला गया।
उसी दिन शाम को मैं उसे लेकर अपने घर वापस पहुँच गया।

शाम को निधि ने ही खाना बनाया। फिर खाना के बाद सभी लोग मम्मी.. भाई.. दादी सोने की तैयारी करने लगे।
मेरे पापा जी अपने व्यापार के चक्कर में अक्सर शहर से बाहर ही रहते है।

loading...

गर्मियों के दिन थे.. सभी लोग अलग-अलग जगह सो गए.. कोई छत पर.. कोई बरामदे में.. तो कोई घर के खुले आंगन में..
रात को करीब 1 बजे मेरी नींद खुली.. तो देखा निधि कमरे में अकेली सोई हुई है.. और कमरे का दरवाजा खुला हुआ था।

मैंने देखा कि निधि का सूट कुछ पेट से ऊपर तक उठा हुआ है।

उसका गोरा चिकना बदन देख कर मेरा मन उसे चूमने को हुआ.. मैं उसके कुछ और करीब गया.. तो देखा कि ऊपर से उसके गोल-गोल उभार बड़े ही मस्त दिख रहे थे।
उसके मस्त मम्मे देख कर तो मानो मेरे दिल में उन्हें पकड़ने के लिए सैलाब सा उठ रहा था पर निधि बड़े कड़क स्वभाव की थी.. तो पास जाने की हिम्मत नहीं हो रही थी।

फिर मैंने इधर-उधर देखा.. सब सोये हुए थे।

मैं धीरे से कमरे में और अन्दर गया और कमरे का दरवाजा बंद कर दिया.. लाइट भी बंद कर दी और बिस्तर पर उसके पास में ही लेट गया।
कुछ देर इन्तजार करने के बाद मैंने अपनी मर्दानगी को ललकारा और धीरे से उसके उभार पर हाथ रख दिया।


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]

और कहानिया

loading...
3 Comments
  1. September 5, 2016 |
  2. September 5, 2016 |
  3. September 6, 2016 |