भाभी को माँ बनने का सुख दिया

loading...

हाई, मेरा नाम राज आर्यन है और मैं आसाम का रहने वाला हु और मैं बीए थर्ड इयर में पढ़ाई कर रहा हु. मेरी ऐज २१ इयर्स है और में हाइट ५.८ फिट है. गर्ल्स, भाभीज और आंटीज, मेरे लंड का साइज़ ८.४ इंच इन लम्बाई एंड ३.४ इंच इन मोटाई में है. अब मैं आपको बोर ना करते हुए, सीधे स्टोरी पर आता हु. ये २ साल पहले की बात है, मेरे कॉलेज में गर्मी की छुट्टिया चल रही थी. हम चार लोग है घर में मैं, भैया, माँ और पापा. मैं एकदिन मेरे मामा के घर गया था. उनकी बेटी की शादी तय हो गयी थी और पापा ने मुझे पहले ही उनके घर भेज दिया. क्योंकि लड़की वालो के घर में कुछ काम ज्यादा ही होता है. जब मैं मामा जी के यहाँ पर गया, तो हम खूब खुश हुए. कॉलेज के चक्कर में, मैं कहीं नहीं जा पाता था और मैं उनके घर पर भी काफी दिनों के बाद गया था. मामा – मामी, नाना – नानी, भैया – भाभी सभी बहुत से लोग आये हुए थे शादी में. वो सब मुझे देख कर बहुत खुश थे. खास कर भैया की बीवी मुझे देख कर बहुत खुश थी. मेरी उनसे बहुत अच्छी पटती थी. मैं जब भाभी के यहाँ होता था, तो उनके इर्द –गिर्द मंडराता रहता था. भाभी बहुत ही सुंदर थी.

उनका नाम पिंकी है. उनका रंग एकदम गोरा और नीली आँखे एकदम नशीली है. उनके शराबी होठ और देखने का अंदाज़ एकदम से होश उड़ा देता है. उनके चेहरे पर हर समय एक क्युटी सी स्माइल होती है, जो उन्हें परी की तरह सुंदर बना देती है. उस दिन तो वो ब्लैक साड़ी में कयामत लग रही थी. उनकी ऐज २८ की होगी और फिगर का तो पुछो मत.. क्या मस्त है फिगर उनका ३६ – २८ – ३८ का होगा. कोई भी देख ले, तो उसके मुह में पानी आ जाए. पता नहीं भैया की किस्मत इतनी अच्छी कैसे थी. भाभी ने मुझे फ्रेश होने के लिए एक रूम में ले गयी और खुद नीचे चली गयी. मैंने फ्रेश होकर नीचे गया और खाना खा कर काम में लग गया. २ बीत जाने के बाद, थोड़ा आराम करने का टीम मिला. तो मैं भाभी के रूम में टीवी देखने लगा. भाभी तभी चाय लेकर आ गयी. हम दोनों ने साथ में बैठ कर चाय पी और बातें करने लगे. मैंने कहा – भाभी काम नहीं है क्या? भाभी ने जवाब दिया – यार, पूरा शरीर दुःख रहा है. थोड़ा आराम करना चाहती हु. मैंने कहा – ओके भाभी. आप आराम कीजिये. मैं बाहर जाता हु. भाभी बोली – बैठ जा यहीं. बातें करते रहनेगे. भाभी ने पूछा – तू आता नहीं है. याद नहीं आती है क्या हमारी?

मैं – ऐसी बात तो नहीं है भाभी. बस टाइम ही नहीं मिलता. पढाई में बिजी रहता हु. देखो, टाइम मिलते ही आ गया आप लोगो से मिलने.

loading...

भाभी – बस कर. पढाई या लड़की. वैसे तेरी गर्लफ्रेंड का क्या हुआ?

मैं – भाभी, ब्रेकअप हो गया. (भाभी मुझ से पहले से ही खुल कर बातें करती थी) अब दूसरी बनाने की तैयारी में हु.

भाभी – अच्छा, कौन है?

मैं – आपकी बहन पूजा. मुझे बहुत पसंद है. कुछ हेल्प कर दो.

loading...

भाभी – अच्छा बच्चू. मेरी बहन पर नज़र है तेरी. वैसे वो पटने वाली नहीं है तुझसे.

मैं – क्यों? क्या कोई है पहले से उसका?

भाभी – पता नहीं. लेकिन वो प्यार के खिलाफ है. उसे प्यार में ट्रस्ट नहीं है.

मैं – ओह, अब तो अकेले ही रहना पड़ेगा. वैसे भाभी, आपका और भाई का प्यार तो मस्त होगा ना. ( भाभी पहले ये सुनकर एकदम से उदास हो गयी और फिर चुप हो गयी. मैं एकदम से चुप रहा). मुझे कुछ गड़बड़ लगा और फिर मैं ने उन से पूछ लिया – क्या हुआ भाभी? आपके चेहरे पर उदासी क्यु है? आप मुझे बता सकती हो. हम दोनों दोस्त है ना…

भाभी – प्यार बहुत करते है. कभी घर की याद नहीं आने देते है. हमेशा खुश रखते है. किसी भी चीज़ की कमी नहीं होने देते है. इनके घर वाले भी मुझे एकदम बेटी की तरह से रखते है.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...