मेहमान की खातिरदारी की लंड से

loading...

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अनुराग है और में इंदौर में रहता हूँ और में कॉलेज स्टूडेंट हूँ. मेरी उम्र 21 साल और मेरी लम्बाई 5.10 इंच है. दोस्तों मुझे शुरू से ही सेक्सी आंटी और भाभी बहुत पसंद है और आज में आप सभी को अपनी एक ऐसी ही सेक्सी आंटी की सच्ची चुदाई की घटना बताने जा रहा हूँ. यह मेरी पहली कहानी है तो मुझसे इसमें कोई ग़लती हो जाए तो प्लीज आप मुझे मैल करके ज़रूर बताना और मुझे माफ़ भी जरुर करना. वैसे मुझे उम्मीद है कि यह मेरी चुदाई की घटना आप लोगो को जरुर पसंद आएगी क्योंकि मैंने इसको कुछ दिनों की मेहनत के बाद लिखकर आप तक पहुंचाया है.

दोस्तों अब में अपनी कहानी पर आता हूँ जो अभी कुछ दिनों पहले ही मेरे साथ घटित हुआ है. दोस्तों मेरे घर में मेरी मम्मी, पापा और में रहता हूँ. दोस्तों कुछ समय पहले मेरे पापा को पाइल्स हो गया और उस वजह से उन्होंने अपने ऑफिस से 2 महीने की छुट्टी ले ली थी. मेरे पापा की सरकारी नौकरी है. तो पापा अपने ऑफिस से छुट्टी लेकर हमारे गाँव में कुछ दिन आराम करने चले गए और फिर मेरी मम्मी भी मेरे पापा के साथ गाँव में चली गई और अब घर पर सिर्फ़ में अकेला था और मेरे कुछ दिन ऐसे ही बीत गए.

फिर एक दिन मेरे बड़े पापा का मेरे पास कॉल आया उन्होंने मुझसे कहा कि उनकी लड़की मतलब कि मेरी कज़िन बहन का का ऑपरेशन हुआ है तो वो उनको कुछ दिन मेरे घर ही रखेंगे क्योंकि उनको इंदोर के हॉस्पिटल में भेज दिया था, तो मैंने कहा कि ठीक है आप ले आओ. अब अगले दिन वो मरीज को लेकर मेरे घर पर आ गए और उनके साथ उनके पति और एक आंटी जो उन्ही के रिश्ते में थी वो और मेरे बड़े पापा भी आए थे. वो आंटी तो उनकी देखभाल करने और मुझे भी खाना बनाने में दिक्कत आती थी इसलिए आई थी, लेकिन दोस्तों मुझे क्या पता था कि वो मेरा उस तरीके से इतना अच्छा ख्याल रखेगी जिसके बारे में मैंने कभी सोचा भी नहीं था. दोस्तों में सबसे पहले सेक्सी आंटी के बारे में बता दूँ, उनकी उम्र करीब 36 साल थी और उनका फिगर 34-32-36 था और वो दिखने में अच्छी थी. वो थोड़ी साँवली थी, लेकिन गाँव की गोरी से कम भी नहीं थी.

loading...

उनका एकदम कसा हुआ गठीला बदन, बड़ी गांड, बड़े बड़े बूब्स एकदम सेक्स माल. फिर मेरे बड़े पापा और उनके पति तो हॉस्पिटल के ही चक्कर काट रहे थे और हम दोनों बहुत घंटो तक घर में अकेले ही रहते थे और इस बीच मेरी उनसे बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी और उन्होंने बताया कि उनकी शादी को पूरे 14 साल हो गए है और उनके दो बच्चे भी है. फिर रात हुई और में हमेशा अपने रूम में ही सोता था और वो बाकी सब लोग हॉल में सोते थे और हम सभी करीब 1 बजे तक बातें किया करते थे और में उन पर लाईन मारा करता था.

फिर एक रात हम सब बातें कर रहे थे तो उस समय आंटी भी नहीं सोई थी और मैंने गौर किया कि वो चादर ओड़कर सोई हुई थी और उनका हाथ उनकी चूत पर था और वो बार बार हिल रहा था. थोड़ी देर वो हलती फिर अपनी चूत पर अपना हाथ रख लेती तो में समझ गया कि यह कुछ ही दिनों में मुझसे जरुर चुद जाएगी. में जब उनको देख रहा था तब उन्होंने मुझे देख लिया था फिर से चादर ओढ़कर सो गई मुझे लगा कि शायद वो मुझसे नाराज़ हो गई है तो मैंने सोचा कि सुबह उठकर देखते है. फिर में भी सो गया, लेकिन रात को अचानक मेरी नींद खुली और किसी ने बाथरूम का दरवाजा खोला तो मैंने चुपके से जाकर देखा तो आंटी और मेरी दीदी थी. पहले तो दीदी मूत करके बाहर आ गई और वो उन्हे बिस्तर पर लेटाकर खुद मूतने चली गई और उनके मूतने की आवाज़ इतनी तेज थी कि में क्या बताऊँ में समझ गया कि यह महीनों से नहीं चुदी है, क्योंकि उनका पति बहुत दारू पीता था और उन्हे मारता भी था.

फिर अगली सुबह में उठा और फ्रेश होकर में किचन में चला गया. मैंने देखा कि वो खाना बना रही थी. में उनके पीछे इस तरह खड़ा हुआ कि मेरा लंड उनकी गांड के एक तरफ छू रहा था और वो मेरी इस हरकत से चौंक गई और मेरी तरफ देखने लगी. मैंने एक स्माइल पास कर दी और वो बिना कुछ कहे फिर से अपने काम में लग गई और फिर में वहीं पर खड़ा खड़ा चाय पीने लगा और उनको भी पिलाई. फिर उनसे पूछा कि क्यों आपको नींद कैसी आई? तो वो मुझसे बोली कि अच्छी आई लेकिन तुम इंदौर के लोग बहुत सुस्त हो, तुम लोग कितनी देर तक सोते हो. फिर मैंने कहा कि एक काम में हम लोग बिल्कुल तंदुरुस्त है और वैसे भी इस काम के लिए तो रात को ही जागना पड़ता है ना?

फिर वो थोड़ा सा शरमा गई और मुझे एक स्माइल दी और मुझसे कहने लगी कि लगता है लड़का जवान हो गया है इसके लिए कोई अच्छी सी लड़की ढूँढनी पड़ेगी. में बोला कि ढूँडने की क्या ज़रूरत है? वो बोली कि क्यों कोई पसन्द कर ली है क्या? अब मैंने कहा कि हाँ, तो वो पूछने लगी कि वो कौन है? अब मैंने तुरंत कहा कि जो मुझे पसंद है वो तो मेरे सामने खड़ी है. तो वो बोली कि कौन में? तो मैंने कहा कि हाँ. वो बोली कि लेकिन यह सब कैसे हो सकता है, हमें मिले तो अभी कुछ ही दिन हुए है?

loading...

अब मैंने बोला कि तो क्या हुआ पसंद तो कोई भी और कभी भी आ सकती है, बस लड़की अच्छी होनी चाहिए. दोस्तों वो मेरी डबल मतलब वाली बात को समझ गई और उसने भी जवाब दिया कि वो तो सब ठीक है, लेकिन लड़का भी तो दमदार होना चाहिए. फिर मैंने कहा कि में आपको दम तो ऐसा दिखाऊंगा कि आप ना-ना करती रह जाओगी लेकिन फिर भी में छोड़ूँगा नहीं. फिर वो बोली कि अच्छा देखते है कि कितना दम है तुम्हारे अंदर? मैंने बोला कि वो सब तो आने वाला वक़्त ही बताएगा. फिर मैंने कहा कि क्या में आपको किस कर सकता हूँ? तभी वो मुझसे बोली कि नहीं, अभी सब लोग यहीं पर है तुम कल कर लेना, जब सभी लोग हॉस्पिटल चले जाएँगे. फिर मैंने कहा कि यहाँ पर कोई नहीं आएगा, प्लीज मेरे बहुत बार समझाने पर वो मान गई और अब मैंने एक लंबा किस किया.

करीब 5 मिनट तक पूरी जीभ मुहं में डालकर. वो मुझसे बोली कि ऐसे भी कोई किस करता है तो मैंने बोला कि में तो ऐसे ही करता हूँ और अभी तो शुरुवात है आगे आगे देखो मेरा दम. फिर वो हंसने लगी और में भी फिर नहाने में लग गया और वो पूरा दिन निकल गया. फिर रात हुई और में उस रात उनके साथ ही रज़ाई ओढ़कर बैठा हुआ था और वो लेटी हुई थी.

फिर मैंने सही मौका देखकर अपना एक हाथ उनकी जाँघ पर रख दिया और सहलाने लगा. वो मुझे देखकर इशारो में मना करने लगी क्योंकि सब लोग वहीं पर बैठे हुए थे, लेकिन में तो अपने काम में लगा हुआ था. फिर मैंने धीरे से उनकी साड़ी को ऊपर किया और सहलाने लगा, वाह क्या मुलायम जाँघ और गरम गरम पैर थे उनके. फिर में उनका पेट सहलाने लगा और थोड़ा सा ऊपर उनके मुहं की तरफ जाकर उनके बूब्स दबाने लगा. वो शायद अब धीरे धीरे गरम हो रही थी क्योंकि अब वो मुझसे मना नहीं कर रही थी और स्माइल पास कर रही थी.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...