रंडी बनकर बिना कंडोम के चुद गयी

loading...

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विभा है और आज में अपनी पहली कहानी लिखने जा रही हूँ, मुझे इसकी कुछ कहानियाँ सच्ची लगती है और जिनको पढ़कर मुझे बहुत मज़ा आता है। दोस्तों यह मेरी लाईफ की एक सच्ची घटना है। में बहुत ही सुंदर हूँ और मेरे फिगर का आकार 30-24-34 है, में बहुत ही आकर्षित लड़की हूँ। में अपनी स्टोरी पर आती हूँ। दोस्तों में एक प्राईवेट सॉफ्टवेर कंपनी में काम करती हूँ और में वहां पर मेरे कॉलेज खत्म होते ही नौकरी करने लगी थी और वहां पर सभी का मेरे लिए व्यहवार बहुत ही अच्छा था, क्योंकि में बहुत ही सुंदर थी। वहां के सभी लड़के मुझसे आगे होकर बातें किया करते थे और मुझे बहुत अच्छा लगता था, लेकिन उसके थोड़े ही दिन बाद मुझे दूसरे प्रोजेक्ट में डाल दिया गया तो उस दिन में बहुत दुखी थी। अगले दिन जब में अपने ऑफिस गई तो मुझे वहां पर एक लड़का मिला, जिसका नाम शाहरुख था, लेकिन में उससे प्यार से ख़ान बोलती थी। दोस्तों में उसको पहली बार ही देखकर बहुत ज्यादा खुश हो रही थी और में मन ही मन उसके बारे में ना जाने क्या क्या सोच रही थी, क्योंकि वो दिखने में बहुत ही अच्छा था। फिर उसने अपने आपका मुझसे परिचय करवाया और उसके बाद मुझे अपनी पूरी टीम से मिलवाया और में बहुत खुश थी, उसका वो बात करने का तरीका और उसका वो समझाने का तरीका।

दोस्तों उस पूरी रात मैंने उसके बारे में बहुत कुछ सोचा और फिर मुझे ख़याल आया कि यह एकदम सही है और जो मेरी प्यास को बुझा देगा। मैंने उस रात अपनी एक दोस्त को फोन लगाकर फोन सेक्स किया और ख़ान को सोच सोचकर अपनी चूत को झड़ने पर मजबूर किया। दोस्तों अब मेरा ख़ान को कैसे भी पटाना हर रोज का सिर्फ यही सोचना था, में अब हर रोज ऑफिस में जाकर ख़ान को लाईन मारती या उससे आगे होकर बात किया करती थी, लेकिन वो मुझे एक बार भी घास नहीं डालता था और ऐसा कई दिनों तक चलता रहा। फिर एक दिन मैंने और मेरी एक दोस्त ने निर्णय लिया कि हम अपने घर पर एक छोटी सी पार्टी करते है और फिर हम ख़ान को भी वहां पर बुलाएँगे। दोस्तों उसके दो दिन बाद मैंने अपनी दोस्त से बात करके उसके घर पर एक पार्टी रखी और जिसके लिए उसने मुझसे हाँ कहा, क्योंकि उस दिन मेरी अच्छी किस्मत से मेरी दोस्त के सभी घर वाले कुछ दिनों के लिए बाहर गए हुए थे और हमने खान को झूठ कहा कि मेरी दोस्त की तरफ से उसके जन्मदिन की एक छोटी सी पार्टी है और उसमें बस हम तीनों लोग रहेंगे।

फिर उस दिन में अपनी दोस्त के घर पर दोपहर से ही पहुंचकर तैयारी करने लगी और अपनी चूत चुदाई के सपने खान के साथ देखने लगी और उस रात मैंने एक सिंगल पीस पहना हुआ था और जिसके नीचे ब्रा, पेंटी भी नहीं पहनी हुई थी, जिसकी वजह से मेरी निप्पल और चूत का उभार साफ साफ नजर आ रहा था, जिसे देखकर उसकी नज़र सीधे मुझ पर जाए और फिर जैसा में चाहती थी ठीक वैसा ही हुआ। अब वो आया और सीधा मुझसे आकर मिला और बोला कि क्या बात है आज तो तुम एकदम हॉट और सेक्सी दिख रही हो? अब में तो पागल ही हो गई, जब यह बात कहकर उसने मुझे हग किया और मेरी कमर पर अपना एक हाथ घुमाया और मेरा मन तो हो रहा था कि में सब कुछ अभी कर लूँ, लेकिन मैंने अपने आप पर बहुत कंट्रोल किया और धन्यवाद कहकर पीछे हट गई। फिर हमने हुक्का पिया और बहुत सारी बातें भी की, वो मेरे एकदम दूसरी साईड में बैठा हुआ था और मुझे घूर रहा था, जिससे मुझे और भी मज़ा आ रहा था। तभी मेरे दिमाग में एक विचार आया और मैंने मेरी दोस्त को इशारे में कहा कि वो जानबूझ कर उसका फोन नीचे गिरा दे और फिर उसने दो मिनट बाद उसका फोन मेरे कहने पर नीचे गिरा दिया, जो कि डाईनिंग टेबल के नीचे गिर गया। फिर में अब बहुत खुश हुई और में नीचे झुककर फोन को उठाने लगी, लेकिन तभी वो बोला कि नहीं में ले लेता हूँ और मुझे तो बस उसी मौके का इंतजार था और जैसे ही वो नीचे झुका तो मैंने तुरंत अपने दोनों पैरों को पूरा फेला लिया और अब मैंने उसको अपनी चूत के दर्शन करा दिए, वो दो मिनट तक नीचे ही था और मेरी चूत को निहारता ही रहा और अब में समझ गई थी कि अब शिकार हाथ में आ गया है।

फिर उसने ऊपर आकर मुझे एक शरारती मुस्कान के साथ वाईन पीने को कहा। दोस्तों मैंने इससे पहले कभी पी नहीं थी, लेकिन मैंने उसके कहने पर पीना शुरू किया और थोड़ी सी पीने के कुछ देर बाद मैंने थोड़ा सा नाटक किया और में उसकी गोदी में जाकर बैठ गई, मेरी दोस्त को तो इन सभी की आदत थी तो उसको लगा कि मुझे आज सच में चड़ गई है और जब में उसकी गोद में जाकर बैठी तो मुझे पता चल गया कि में अब चुदने वाली हूँ, क्योंकि अब उसका लंड तो कड़क होकर पेंट के बाहर आने वाला था और मुझे चुभ रहा था। फिर ख़ान ने मुझे उठाने के बहाने से मेरी चूत में अपनी एक उंगली घुसा दी और जिसका मुझे बिल्कुल भी विश्वास नहीं हुआ, लेकिन मैंने अपना नाटक चालू रखा और अब मैंने उसके लंड पर अपना एक हाथ रख दिया, में अब उसके लंड के आकार, गरमी को हाथ लगाकर महसूस करने लगी। फिर उसके कुछ देर बाद हम लोगों ने घर जाने का फैसला लिया। फिर ख़ान ने मेरी दोस्त को कहा कि में इसको घर पर छोड़ दूँगा। दोस्तों में अंदर ही अंदर बहुत खुश थी और ख़ान को लग रहा था कि मुझे चढ़ गई है और में उसी बात का फायदा उठाकर उससे चिपकर बैठ गई और थोड़ी ही दूर जाकर उसने मुझसे बोला कि मुझे थोड़ा काम है और वो निपटाकर में तुमको घर पर छोड़ दूँगा और मैंने हाँ कर दिया।

दोस्तों वो अब मुझे बिल्कुल सुनसान रोड पर ले जा रहा था और में समझ गई थी कि आज मेरी चूत चुदाई पक्की है। फिर मैंने उससे पूछा कि हम कहाँ जा रहे है? तो वो बोला कि पास में ही मेरे एक दोस्त का घर है तो हम वहां पर जा रहे है और थोड़ा आगे जाकर उसने अपनी गाड़ी को रोक दिया, जहाँ पर ना कोई दोस्त था और ना ही उसका घर था और फिर वो मुझसे बोला कि आज तू मेरी रांड है और आज के बाद जिंदगी भर मेरी रांड बनकर रहेगी। फिर मैंने अभी भी नशे में होने का नाटक किया तो उसने मुझसे कहा कि में अपने घर पर फोन करके कह दूँ कि में आज अपनी दोस्त के घर पर रुकूंगी और आज तू मेरी रंडी है। फिर में उसकी यह बात सुनकर बहुत डर गई थी, लेकिन अब मेरे पास कोई रास्ता भी नहीं था और मुझे भी उससे अपनी चुदाई करवानी थी और फिर मैंने अपने घर पर फोन करके बोल दिया कि में आज रात अपनी दोस्त के यहाँ पर रहूंगी और फिर फोन रखते ही उसने मेरी चूत में उंगली रख दी और मुहं पर हाथ रखकर मुझे दबोच लिया। फिर मैंने उससे गुस्से में कहा कि में तेरी रंडी जरुर हूँ, लेकिन तू मुझे थोड़ा आराम से तो चोद, फ्री में तो तेरी गर्लफ्रेंड भी तुझे अपनी चूत नहीं देगी, लेकिन में तुझे दे रही हूँ मादरचोद। दोस्तों वो मेरे मुहं से यह सब सुनकर जोश में आकर गरम हो गया और उसने मुझे होंठो पर किस करना शुरू किया और में भी बहुत ही मज़े से उसका पूरा पूरा साथ दे रही थी और थोड़ी देर बाद उसने मेरा वन पीस उतार दिया और अब वो मुझे घूर घूरकर देखने लगा, लेकिन अब मुझे इस बात का डर था कि कोई वहां पर आ ना जाए तो इसलिए मैंने उससे कहा कि हम घर पर चलते है, यहाँ पर कोई आ जाएगा, लेकिन उसने मेरे मुहं पर हाथ रखकर मेरे बूब्स को चूसने लगा और एक हाथ से चूत को रगड़ रहा था और जिसकी वजह से में बहुत गरम हो गई थी।

फिर मैंने उसका लंड बाहर निकाला और ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी, वो उसकी दोनों उँगलियों को डालकर चूत को ज़ोर ज़ोर से हिला रहा था और में ज़ोर ज़ोर से अआह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह मेरी चूत को फाड़ दो, प्लीज कहने लगी तो वो मुझे देखकर बोला कि तू सच में मेरी रंडी है क्यों तेरी चूत अब तक कितनी बार चुद चुकी है? फिर मैंने कहा कि 10-12 बार, लेकिन तेरे जैसा लंड पहली बार मिला है, उह्ह्ह प्लीज अब मुझे और मत इंतजार करवाओ और डाल दो अपना लंड मेरी चूत में, फाड़ दो इसे। फिर उसने बोला कि अभी तो इसको मुहं में ले और फिर दस मिनट तक मुहं में लेकर मसाज किया और उसका सारा रस पी गई। अब हम 69 पोज़िशन में थे और में बिल्कुल पागल हो रही थी और उसके वीर्य को पीकर थोड़ी देर बाद उसने मुझे अपने ऊपर लेटाया और फिर अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और करीब 15 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद वो मेरी चूत में झड़ गया और वो सब होने के बाद मुझे ध्यान आया कि में बिना कंडोम के चुद गई और फिर में ज़ोर ज़ोर से रोने लगी और अपनी एक छोटी सी गलती के बारे में सोच सोचकर उसके परिणाम के बारे में सोचने लगी।

फिर उसने मुझे बहुत देर तक समझाया और मुझे किस करने लगा और फिर बोला कि चलो अब घर पर चलते है, मुझे पूरे रास्ते भर बहुत दुख था कि मैंने बहुत ग़लत किया, लेकिन अब कुछ नहीं हो सकता था। फिर हम घर पहुंचे तो उसने मुझे फिर से हग किया और बोला कि आज से तू मेरी सब कुछ है और किस करने लगा और में भी उसका साथ दिए जा रही थी। अब मुझे उसके साथ डॉगी स्टाईल में सेक्स करना था तो मैंने भी कह दिया कि तुम मुझे एक बार डॉगी स्टाईल में चोदो। मैंने आज तक कभी भी उस तरह से अपनी चुदाई के मज़े नहीं लिए थे और में उस सेक्स अनुभव को भी लेना चाहती थी। फिर वो मुझसे बोला कि ठीक है में तुझे वैसे ही चोदूंगा जैसे तूने मुझसे कहा है। फिर मैंने बोला कि में आपकी रंडी हूँ और अब मुझे अपनी रंडी बनाकर रोज चोद और फिर उसने मुझे उस रात चार बार चोदा और उसने मेरी गांड, चूत को फाड़ दिया, मुझे अपनी चुदाई के मज़े दिए। दोस्तों आज तक भी वो मुझे चोद रहा है और उसने मुझे चोदकर हमेशा मुझे पूरी तरह से संतुष्ट किया है और में उसके साथ सेक्स करके बहुत खुश हूँ ।।

धन्यवाद …


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...