रेखा की चूत को चाटकर चोदा

loading...

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रेयांश है. दोस्तों यह बात तब की है जब में 12th क्लास में पढ़ता था और उस समय मेरे साथ एक लड़की पड़ती थी. उसका नाम रेखा था, उसको में मन ही मन बहुत पसंद किया करता था. दोस्तों वो दिखने में बहुत सुंदर, उसका वो गोरा, गदराया हुआ बदन मुझे क्या हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित करता था. तो एक दिन जब हम अपनी क्लास से बाहर निकल रहे थे तभी बहुत ज़ोर से बारिश होने लगी और में अपनी बाईक से अपने घर पर जा रहा था. तो मैंने रेखा से कहा कि चलो में तुम्हे तुम्हारे घर पर छोड़ देता हूँ और अब थोड़ा ना नकुर करने के बाद वो मान गई और रास्ते में हम अपनी क्लास की बातें करते रहे.

फिर उस रात मैंने उसको एक मैसेज किया कि मुझे तुमसे कुछ बात करनी है, तो उसने मुझे कॉल करने को कहा और फिर मैंने उसे फोन करके अपनी दोस्ती के बारे में कहा तो उसके कुछ दिन बाद हमारी दोस्ती कब प्यार में बदल गई हमें पता ही नहीं चला और अब हम एक दूसरे को बहुत प्यार करने लगे थे.

धीरे धीरे हमने सेक्स चेट भी चालू कर दिया, लेकिन मैंने उसे किस से ज्यादा कुछ नहीं किया. एक दिन हम फिल्म देखने चले गये तो तभी फिल्म में एक सेक्सी सीन आ गया और उसे देखकर में बहुत हॉट हो गया. मैंने उससे कहा कि मुझे किस करना है. तो उसने मेरे होंठो पर अपने होंठो लेकर समूच करना शुरू कर दिया और फिर मैंने उसकी जीभ को चूसना चालू किया और वहां पर मैंने पहली बार उसके बूब्स को कपड़ो के ऊपर से दबाया. अब वो भी बहुत गर्म हो गई थी. उसने मुझसे कहा कि प्लीज अब इन्हे कैसे भी करके चूसो दबाओ. अब मैंने उसके कहने पर इधर उधर देखकर उसके सूट को थोड़ा ऊपर कर दिया क्योंकि वो फिल्म थोड़ी सेक्सी थी तो वहां पर ज्यादा लोग भी नहीं थे.

loading...

फिर मैंने उसके बूब्स को दबाना चूसना शुरू किया, वाह क्या मस्त मुलायम थे उफ़फ्फ़ वो उसके छोटे छोटे बूब्स, उसके ऊपर छोटी सी किशमिश जैसी निप्पल. में अब उन्हे ज़ोर से चूस रहा था और उसके मुहं से अब मोन की आवाज़ आ रही थी आअहह उह्ह्ह्हह्ह हाँ रेयांश और ज़ोर से चूसो खा जाओ अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह मेरी जान आईईईईईई खा जाओ और ज़ोर चूसो, दबाकर पी जाओ मेरे दोनों बूब्स को अह्ह्ह्ह आईईईई. फिर कुछ देर के बाद मैंने उससे कहा कि तुम भी अब मेरा लंड चूसो. उसने पहले तो मुझसे साफ मना कर दिया, लेकिन फिर मेरे कहने पर वो मान गई. उसने मेरा 6.5 इंच का लंड मेरी पेंट से बाहर निकाला जो अब तक पेंट में तम्बू बनकर खड़ा था और फिर वो नीचे बैठकर चूसने लगी. में तो जन्नत में था दोस्तों उसने मुझे सातवें आसमान पर पहुंचा दिया था.

मेरे लंड का सुपड़ा वो अपने मुहं में पूरा अंदर तक ले गई थी और उसे लोलीपोप की तरह चूस रही थी. तभी कुछ देर के बाद मेरा वीर्य उसके मुहं में ही निकल गया और उसने वहीं पर उल्टी कर दी. फिर मैंने थोड़ी देर उसके बूब्स दबाए और फिर कपड़े ठीक करके हम अपने घर पर चल दिए. दोस्तों वो मेरा पहला सेक्स अनुभव था, लेकिन उस दिन मैंने उसकी चूत को नहीं देखा था, लेकिन फिर कुछ दिन बाद मेरे घर पर कोई नहीं था तो मैंने उसे अपने स्कूल से बिना बताए मेरे घर पर बुला लिया. वो उस समय स्कर्ट और शर्ट में थी और फिर मैंने उसे किस करते करते उसकी शर्ट के सारे बटन खोल दिए और फिर उसकी ब्रा को भी खोल दिया और फिर मैंने 15 मिनट तक उसके छोटे छोटे रसीले बूब्स को दबाया. दोस्तों मुझे तो उस दिन मज़ा ही आ गया. फिर मैंने हाथ को नीचे बढ़ाते हुए उसकी स्कर्ट को उतार दिया और फिर पेंटी को भी. उसने मुझसे कहा कि प्लीज पहले कंडोम लगा लेना, तभी आगे कुछ करना.

फिर मैंने उससे कहा कि हाँ ठीक है और फिर में उसे अपनी गोद में उठाकर बेडरूम में ले गया और उसे बिल्कुल सीधा लेटा दिया और फिर मैंने उसके माथे पर किस किया और उसके बाद उसके गुलाबी गुलाबी होंठो को चूसा. फिर गर्दन को चूमा और फिर ऐसे ही बूब्स और फिर मैंने उसकी चूत के पास आकर उसकी जाघों पर किस किया, लेकिन अब उसकी चूत की खुशबू मुझे बिल्कुल पागल बना रही थी. मैंने जल्दी से उसकी जाघों को एक दूसरे से अलग करके देखा तो उसकी वो छोटी सी गुलाबी चूत मेरी आखों के सामने थी. मैंने अब बिल्कुल भी देर ना करते हुए उसकी चूत में अपनी जीभ को लगा दिया और फिर चूसने लगा.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...
3 Comments
  1. September 18, 2016 |
  2. September 18, 2016 |
  3. Anonymous
    September 18, 2016 |