Hindi Sex Kahaniya & Sex Pictures

Desi Chudai Kahani, Indian Sex Stories, Chudai Pics ,College Girls Pics , Desi Aunty-Bhabhi Nude Pics , Big Boobs Pics

लंड चुसाई मुखमैथुन की उस्ताद नाजिया द्वारा

दोस्तो, मैं और मेरा दोस्त सुहैल अच्छी कद काठी के हैं

और एक जिम में ट्रेनर हैं.

हमारे ओनर का नाम विक्की है.

एक दिन सुहैल और मैं पान की टपरी पर सिगरेट पी रहे थे कि

एक क़यामत की सेक्सी लड़की ने सुहैल के हाथ से सिगरेट ले ली और बोली, “अकेले अकेले पी रहे हो?”

वह नाजिया थी, उसने भी कश लिया और सिगरेट फेंक दी।

“चल कहीं चलते हैं, यहाँ कोई देख लेगा तो मुसीबत हो जायेगी।”

नाजिया मुझे अनदेखा करते हुए सुहैल से मुखातिब थी।

सुहैल को ध्यान आया तो बोला- जान, इनसे मिलो,

यह रवीश है, रवीश यह नाजिया है।”

नाजिया ने हाथ बढ़ाया तो हमने भी सिगरेट फेंक दी नाजिया से हाथ मिलाया।

क्या मखमली हाथ थे !

पर मेरी नज़र तो उसकी छाती पर गड़ी थी।

“तो चलें सुहैल?” नाजिया बोली, तो तन्द्रा भंग हुई, वह मुड़ी तो साली के बड़ा गांड पर निगाह गड़ गई।

सुहैल ने जो फ़ोटो दिखाए थे उससे भी ज्यादा सेक्सी ! मेरे फ्लैट पर जाना तय हुआ।

“यार, हमें छोड़ कर तू मेरी बाइक ले और थोड़ा घूम आ !” सुहैल आँख मारते हुए बोला। हम बाइक पर ट्रिपल सीट सवार हुए, नाजिया बीच में और मैं सबसे पीछे।

फ्लैट नज़दीक ही था मगर रास्ते में नाजिया की कमनीय जांघों पर हाथ फिराता रहा।

फ्लैट से निकले 10 मिनट भी नहीं हुए सुहैल का फ़ोन आ गया- भाई, जल्दी आ !

फ्लैट पर गया तो नाजिया सिगरेट पी रही थी, टॉप के कुछ बटन भी खुले थे।

“यार, विक्की भाई का फ़ोन आया है, मुझे ऑफिस जाना होगा। तू थोड़ी देर नाजिया के के साथ बैठ वह अभी घर नहीं जा सकती है। बाद में छोड़ देना भाई !” सुहैल बोला और चला गया।

“तो बहुत हाथ फिरा रहा था दोस्त की माल पे?” नाजिया ने सिगरेट बढ़ाते हुए बोला।

हाथ उठाया तो ब्रा में कैद मम्मों की झलक दिखी, नज़रें फिर वहीं गड़ गई।

नाजिया ने भी भांप लिया कि मैं नज़रों से चोद रहा हूँ। वैसे भी विक्की भाई के फ़ोन से सुहैल के साथ चुदाई खेल शुरू ही नहीं हो सका, नाजिया भी प्यासी थी।

“बुरा लगा?” हमने पूछा और तपाक से बात बदलते हुए बोला- यह सिगरेट इतनी मीठी कैसे है? ओह, तुम्हारे होटों से छूकर मीठी हो गई।

“साले, अपने दोस्त की गर्ल फ्रेंड को तो छोड़ !”

“आज गर्मी बहुत है !” कहते हुए हमने अपना शर्ट खोल दिया, मेरे स्वेट टी-शर्ट से मेरी मस्त बॉडी दिख रही थी। नाजिया की प्यास बढ़ाने के लिए काफी था, उसने खींच कर अपने पास बिठा लिया।

“क्या बोल रहे थे? यह सिगरेट मेरे होंठ छूने से मीठी हो गई? तो सोचो मेरे होंठ कितने मीठे होंगे?” एक लम्बा कश लेते हुए नाजिया मेरी छाती और एब्स पर हाथ फिराने लगी।

हमने उसे अपने बाहुपाश में जकड़ा और उसके होटों पे जीभ फेरने लगा और बोला- वाकयी मिशरी है, जरूर अंदर शहद होगा !

नाजिया मेरी बाँहों में पिंघल गई और सिगरेट के स्वाद वाला थूक एक दूसरे के मुँह से पीने लगे। हर मिनट अलग होते और फिर ज़ोर से चिपक जाते।

नाजिया ने मेरे कान, गर्दन, बाइसेप्स और छाती सब चूम चूम के गीले कर दिए। मेरे हाथ भी उसके टॉप में जा चूचों का मर्दन कर रहे थे साथ ही उसकी गर्दन, कंधे सब को नंगा कर चूम रहे थे।

15 मिनट के बाद दोनों खड़े हुए और आनन-फानन में पूर्ण नग्न हो एक बार फिर आलिंगनबद्ध हो एक दूसरे को चूस रहे थे।

नाजिया कभी मेरा लण्ड पकड़ कर मसल रही थी कभी गांड में उंगली करते हुए टट्टे मसलती। नाजिया के बोबे कड़क, जवान, बड़े और मस्त थे। मैं कभी दायां चूसता कभी बायां ! साथ ही बारी बारी हिप्स भी रगड़ता, बीच बीच में एक दूसरे को चाटते चूमते।

अपनी मजबूत बाँहों में उठा उसको अंदर बिस्तर पर पटका और पलंग के किनारे खड़े हो गया। उसकी दोनों टांगें उठा कर चौड़ी की और अपने कंधों पर रख ली। उसकी जांघों पर हाथ फिराते हुए चूत चाटने लगा। नाजिया की फांक के नीचे से शुरू कर मेरी जुबान उसकी रसीली फुद्दी पर रेंगते हुए भग्नासा को छेड़ती, कभी गांड से चाटते हुए चूत का रसपान करती।

नाजिया मेरी जकड़ में कामवासना से थिरक रही थी।

नाजिया के हाथ मेरा लंड आ गए तो अपने मुंह की ओर मुखमैथुन के लिए  खींचने लगी। अपनी नंगी टांगें नीची कर बिस्तर से उतरी और मुख चूमने लगी। मेरे चेहरे पर लगा काम रस चाट कर इकट्ठा किया और अपनी जुबान से मुझे पिलाया। फिर ज़मीन पर पैर चौड़े कर बैठ गई और मलंग हो मेरी लंड चुसाई करने लगी.

नाजिया कभी टट्टे चूसती, कभी जांघें चाटती फिर लण्ड चूसती।

सच बोलता हूँ, रोज रिया चूसती है पर नाजिया लंड चूसने की गुरु है।

मस्त टन-टनाता लंड अब चूत में धूम मचाने के लिए तैयार था। नाजिया को उठाया मुख चुम्बन दिया और बिस्तर पर लिटा लंड पेल दिया। नाजिया की चूत मस्त गीली थी। हर धक्के के साथ नाजिया की चूत की नई गहराइयाँ छू रहा था। नाजिया भी मज़े लेकर चुद रही थी। साथ ही मैं उसके बड़ी चूच का मर्दन कर रहा था। थोड़ी देर बाद नाजिया करवट के बल लेटी और मैं पीछे से आ अपना लंड चूत में डाल चोदने लगा। नाजिया का मुँह अपनी ओर किया और चोदते हुए चूमने लगे।

“जानू, मेरा निकलने वाला है !” हमने गति बढ़ाते हुए कहा।

“अन्दर मत आना र…. राजा, मुह में दे दे !” नाजिया बोली।

चंद झटके और मारे एन मौके पे निकाल नाजिया के मुँह में दे दिया, ढेर सारा रस नाजिया के मुँह में भर गया। कुछ गटक गई बाकी अपनी ठुड्डी और बोबों पर गिरने दिया, फिर मेरा लंड चूस के साफ़ किया।

हम वहीं पलंग के सहारे बैठ गए और सिगरेट पीने लगे। साथ में नहाए और नाजिया को घर छोड़ा और मैं भी जिम में अपनी ड्यूटी पर निकल गया।

More Stories

Tags

Hindi Sex Kahaniya & Sex Pictures © 2017