साले की बीवी की कामुक चुदाई

loading...

हेलो दोस्तों, कैसे है आप? आप को मैं तो याद ही हुंगी. मेरा नाम अंजली है और मैंने आपको अपने साथ हुई, अपने और मेरे पति के बीच के बहुत से कामुक वृतांत सुनाये है. मुझे ख़ुशी होती है, जब आप उन्होंने पड़ कर मुझे अच्छे कमेंट देते है. आज मैं आपको अपने साथ तो नहीं, लेकिन रजत की सेक्स कहानी के बारे में सुना रही हु. रजत ने मुझसे ये सेक्स के बारे में कभी शेयर नहीं किया और शायद मुझे पता भी नहीं चलता, अगर मैं वहां गलती से नहीं पहुचती. लेकिन, वो सेक्स बहुत कामुक और गरम था. चलिए, मैं आपको बहुत ज्यादा बोर नहीं करती हु और सीधे कहानी पर आ जाती हु.

रजत के बारे में तो मैंने पहले भी बताया हुआ है, कि रजत की हाइट ६ फिट से ऊपर है और वो एक कसरती बदन के मालिक है और उनकी चौड़ी छाती को देख कर मेरे आसपडोस की सारी औरते आहे भर्ती है. मुझे पता था, कि मेरी छोटी बहन और मेरे दोनों भाई की बीविया भी रजत को पसंद करती थी और हमेशा बोलती थी. जीजा जी तो सपोर्ट पर्सन है, आपको बहुत खुश रखते है? मैं सिर्फ मुस्कुरा कर रह जाती थी और उन लोगो के दिलो पर सांप लोट जाता था. सच कहू दोस्तों, जब भी औरतो रजत को देख कर आहे भर्ती और उनकी तारीफ करके मुझ से जलती थी, तो मुझे ज्यादा मज़ा आता था, और मुझे अपनी किस्मत पर नाज़ होने लगता था.

तो बात समर वेकेशन की है. मेरा भाई और भाई की बीवी यानी मेरी भावज रश्मि मेरे घर आये थे. रजत ने भी उनको दिल्ली घुमाने के लिए छुट्टी ले ली थी और ३-४ दिन उन्होंने सबको बहुत घुमाया. इन ३ – ४ दिन में मैंने नोटिस किया, कि रश्मि रजत के करीब जाने की कोशिश कर रही थी. वो कभी भी उनका हाथ पकड़ लेती थी और उनको छु लेती थी. पहले तो रजत ने इग्नोर कर दिया. लेकिन, अगर चूत सामने से बुला रही हो, तो कौन मर्द नहीं गिरेगा? रजत ने भी उसको रेपोंस देना शुरू कर दिया. मुझे रजत से कोई प्रॉब्लम नहीं थी. क्योंकि हम दोनों ही खुले विचारो वाले बिंदास सेक्स लाइफ जीने वाले लोग है. वो सन्डे को वापस जा रहे थे. तो सैटरडे को रजत ने सबको बाहर डिनर करवाया और मूवी दिखाई. पुरे दिन घुमने के कारण हम सब थके थे और अपने – अपने रूम में जाकर सो गये थे.

loading...

अचानक रात को १ बजे मेरी आँख खुली, तो मैंने देखा कि रजत बिस्तर पर नहीं थे. मैंने उनको आवाज़ दी, तो कोई रेस्पोंस नहीं आया. फिर मैं उठी और बाहर आई. बाहर का नज़ारा देख कर तो, मेरी आँखे ही फटी रह गयी. रजत सोफे पर बैठे थे और रश्मि उनकी गोद में बैठी हुई उनको किस कर रही थी. मैंने चुपचाप वहीँ खड़ी रही और सब देखने लगी. रश्मि ने रजत का चेहरा पकड़ा हुआ था और वो इस तरह से उसके होठो को चूस रही थी, जैसे की जन्मो से प्यासी हो. उसने बड़ी ही बैचेनी से रजत के कुरते के बटन खोले और वो तो फाड़ने ही वाली थी. तो रजत ने उसे रोका और अपना कुरता उतार दिया. वो रजत की बालो से भरी हुई छाती पर हाथ फेर रही थी और चूम रही थी. वो बार – बार बोल रही थी, जीजा जी. आप बहुत गरम हो. दीदी इसलिए आपसे खुश रहती थी. मेरा पति तो १० मिनट से ज्यादा टीक ही नहीं पाता. बहुत प्यासी हु मैं. प्लीज आज मेरी प्यास बुझा दो.

रजत ने अब उसे उठाया और उसको सोफे पर लिटा दिया और उसकी साड़ी खोल दी और उसके ब्लाउज को भी उतार दिया. रजत बहुत ज्यादा चांस नहीं लेना चाहते थे. उन्होंने अपने पायजामे को उतार दिया और अंडरवियर में से उनका लंड बाहर आने को तड़प रहा था. रजत का ८ इंच का लंड इतना बड़ा तम्बू बना रहा था. मैंने ने खड़े – खड़े ही पानी छोड़ दिया था. मन कर रहा था, कि मैं भी चली जाऊ. लेकिन बात बिगड़ सकती थी. इसलिए मैं वही रुक कर सब देखने लगी. रजत ने उसकी ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स को अपने हाथो में भर लिया और उसको मस्ती में दबाने लगे.

रजत ने रश्मि के होठो को अपने होठो के बीच में दबाया हुआ था और वो उसको जोर से चूस रहे थे. रश्मि के कहराने की आवाज़ को मैं सुन सकती थी अहहः अहहः अहाहा अओअओअओअ अहहः ह्ह्ह्हम्म्म्म उम्म्म्मम्म हम्म्म्म और करो जीजा जी.. बहुत गरम… रजत उसके ऊपर पुरे लेटे हुए थे और उसका लंड उसकी चूत को छु रहा था. रश्मि ने हाथ बडाकर उसको अंडरवियर के ऊपर से उनको पकड़ लिया और दबाने लगी. रश्मि ने रजत के लंड को पूरी मजबूती से दबा दिया और रजत ने दर्द में उसके होठो को काट लिया. उन दोनों के मुह से आआआआआ आआआआआ जोर से चीख निकल गयी.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]

और कहानिया

loading...