४० साल की नौकरानी को चोदा

loading...

हैल्लो दोस्तों, मुझे शादीशुदा समझदार औरते बहुत पसंद है, खास करके उनकी उम्र 35-40 साल के आसपास होनी चाहिए. दोस्तों मेरी जिस घटना को में आज आप सभी को बताने जा रहा हूँ वो करीब एक साल पहले हुई थी जब में अपने कॉलेज की क्लास में जाया करता था, लेकिन वो हमारे कॉलेज से थोड़ा दूरी पर थी और वो क्लास बहुत ही छोटी सी थी. उसमे करीब अलग अलग शिफ्ट में 100 बच्चे ही आते थे और वहां पर एक नौकरानी झाड़ू मारने के लिए आया करती थी, लेकिन वो दिखने में इतनी अच्छी नहीं थी, लेकिन उसकी नज़र बहुत कातिल थी और उसका नाम चंद्रिका था. वो थोड़ी सी मोटी थी, बड़ी गांड और एक हाथ में भी ना आए इस आकार के बूब्स और वो जब झाड़ू मारती थी तो उसकी छाती बहुत आराम से दिख जाती थी और जब में उसके सामने देखता था तो वो मुझे कुछ अजीब तरीके से देखती थी. उसके चेहरे पर साफ लिखा था कि उसे कुछ चाहिए जो उसे मज़े दे सके?

तो एक दिन मुझे एक ऑनलाइन टेस्ट देना था और में सबसे पहले पहुंच गया, लेकिन हमारी क्लास के सर को उसी दिन कहीं किसी जरूरी काम से अचानक बाहर जाना था और मेरी उनसे बहुत अच्छी बनती थी. उन्होंने मुझे क्लास की चाबी दे दी क्योंकि उस दिन सिर्फ मुझे ही वहां पर सबसे पहले पहुंचना था और अपनी तैयारी करनी थी और फिर उन्होंने मुझसे बोला कि तुम टेस्ट देने के बाद लॉक कर देना और चाबी पास वाले ऑफिस में दे देना. में तो कंप्यूटर चालू करके सब कुछ देखने लगा और तभी चंद्रिका आई और हाथ में अपना झाड़ू लिए उसने मुझसे पूछा कि क्यों आज साहब नहीं आए? मैंने बोला कि हाँ आज वो किसी काम से बाहर गये हुए है इसलिए वो आज नहीं आ सकते.

फिर उसने अपना काम मतलब कि झाड़ू मारना शुरू कर दिया, लेकिन अब मेरा ध्यान कंप्यूटर पर लगता ही नहीं था. में बीच बीच में उसकी तरफ देखने लगता था और अब सबसे मज़े की बात यह थी कि वो भी मुझे झाड़ू मारते मारते स्माईल देती जा रही थी. फिर कुछ देर बाद जब वो झाड़ू मारकर जा रही थी तो मैंने थोड़ी बहुत हिम्मत करके उससे पूछा कि आपका नाम क्या है?

loading...

उसने मुस्कुराकर बोला कि मेरा नाम चंद्रिका है और अब उसकी आवाज़ सुनकर मेरे पूरे बदन में कुछ हो रहा था तो मैंने थोड़ी और हिम्मत करके उससे कहा कि हाँ में कब से आपका ही इंतज़ार कर रहा था? मेरे मुहं से यह बात सुनते ही उसके चेहरे पर एक अजीब सी स्माईल आ गई और वो थोड़ा थोड़ा शरमाने लगी. फिर मैंने उससे कहा कि अगर आपको देर ना हो रही हो तो क्या आप मुझसे थोड़ी देर बात कर सकती है? तो वो बोली कि हाँ क्यों नहीं और अब वो मेरे पास में पड़ी हुई एक बेंच पर बैठ गयी और फिर मेरे कुछ बोलने का बहुत बेसब्री से इंतज़ार करने लगी.

फिर मैंने उसके बारे में सब जानकारी पूछना शुरू की और तब मुझे पता चला कि उसके पति की पिछले कुछ सालों पहले म्रत्यु हो चुकी है और वो अब अपने इकलोते बेटे के साथ रहती है और उसका बेटा करीब अब मेरी उम्र का है. दोस्तों वो जब बोलती थी तो मेरे बदन में एक आग सी लग जाती थी. मेरा मन करता था कि में इसे अभी पकड़कर चोद डालूं, लेकिन मैंने अपने आप पर बहुत काबू रखा. फिर मैंने एकदम सही मौका देखकर उसकी तरफ एक और तीर मारा और मैंने उससे पूछा कि क्यों आपको आपके पति की कभी कमी महसूस नहीं होती?

उसने झट से कहा कि हाँ होती तो है, लेकिन अब में क्या कर सकती हूँ? तो मैंने जल्दी से उसकी बात खत्म होते ही बोला कि में हूँ ना, में आपकी मदद करूँगा. तो मेरे मुहं से यह बात सुनकर वो मुझे बहुत ही अजीब तरीके से देखने लगी और बहुत देर तक इधर उधर की बातें करने के बाद वो बोली कि ठीक है अब में घर जाती हूँ और बाकी की बातें हम लोग कल करेंगे, लेकिन दोस्तों अब मेरा लंड मानने को तैयार ही नहीं था. उसे तो बस अब चंद्रिका की चूत का रस चूसना था और अब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उससे बोला दिया कि प्लीज थोड़ा और रुक जाओ ना, आपसे बात करके मुझे बहुत अच्छा लग रहा है.


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...