हेल्लो दोस्तो मी आज अपनी पहली सेक्स कहानी लिखने जा राहा हु; मुजे आशा हे की आप को मेरी कहानी जरुर पसंत आएगी; में सोलापुर का रहने वाला हु और मेरा नाम अंकुर हे; में आज अपनी सेक्स लाइफ की सच्ची घटना सुनाने जा रहा हु जो मेरे साथ घटी थी.

इस कहानी के मुख्य पात्र में और मेरी बहन की दोस्त हे; मेरा नाम अंकुर हे और मेरी बड़ी बहन का नाम रश्मि हे; मेरी उमर १८ साल हे और मेरी बहन की उमर २१ साल हे; में अपने माता पिता और बहन के साथ रहता हु; मेने अपनी १० वि की पढ़ाई के लिए एक क्लास लगा रखा था; और मेरी बहन ने भी उसी क्लास में ट्यूशन लिया हुआ था; में पढने में होशियार था और अपने दोस्तों की भी मदत कर दिया करता था; मेरे क्लास में एक प्रिया नाम की सुंदर लड़की भी पढ़ती थी; और वह मेरी बहन की दोस्त भी थी क्योंकि उसकी और मेरी बहन की स्कुल एक ही थी; तो उसकी प्रिया के साथ जान पहचान थी; मेरा घर क्लास के नजदीक था तो आते जाते मुझे प्रिया दिख जाती थी; और उसे देख कर मेरे दिल में घंटी बजने लगती थी.

एक दिन बारिश का मौसम था और में अपने घर की बालकनी में खड़ा रह कर बहार देख रहा था की मेने देखा की प्रिया एकदम भीगी हुई क्लास की तरफ जा रही थी; मेने सोचा की अब तो क्लास नहीं हे फिर यह क्यों वहा पर जा रही हे? मेने सोचा शायद सर के पास कोई प्रॉब्लम ले कर जा रही होगी; तो मेने कुछ ज्यादा नहीं सोचा; कुछ देर बाद बारिश बहुत जोर से आने लगी; और थोड़ी देर में प्रिया भी क्लास से बहार आ गयी; लेकिन बारिश होने की वजह से वह क्लास के बहार खड़ी रह कर बारिश रुकने का इंतजार करने लगी.

मेने सोचा की यह अच्छा मौका हे उसके साथ नजदीकी बढाने के लिए; तो मेने मेरी बड़ी बहन रश्मि को कहा की तुम्हारी स्कुल की फ्रेंड बारिश ने भीग रही हे; तो उसने भी बालकनी में आ कर देखा और वहा से प्रिया को कहा की वहा क्यों खड़ी हो? हमारे घर पर आ जाओ; तो प्रिया उसे देख कर हां कहते हुए हमारे घर के दरवाजे पर आ पहुची; और दीदी ने घर का दरवाजा खोल कर उसे अंदर बुला लिया.

में तो उसके भीगे बदन को देखता ही रहा गया; क्या क़यामत लग रही थी, एक तो पहले से एकदम गोरी थी और भीगने की वजह से उसके कपड़े उसके गोर बदन पर चिपक गये थे; और उसकी ब्रा भी दिखने लगी थी; में तो उसे देख कर दीवाना बन गया और दीदी ने उसे अंदर बुला कर टॉवेल दिया; और उसके लिये चाय बनाने के लिया किचन में चली गयी.

मेने प्रिया से पूछा की तुम अभी क्लास में क्यों आई थी? तो उसने कहा की में सर से मेथ्स के प्रॉब्लम ले कर गयी थी क्यूंकि वह मुझे समज में नहीं आ रहे थे;  मेने कहा की मेथ्स तो मेरा बेस्ट सब्जेक्ट हे और मुझे बहुत मार्क भी मिलते हे; तो उसने कहा यह तो हे; अपनी क्लास की हर टेस्ट में तुम ही अच्छे मार्क्स लाते हो; यह सुन कर में खुश हुआ, तो मेने पूछा की तुम्हारा काम हो गया? तो उसने कहा की नहीं सर अभी कही बहार गये हुए हे और देर रात आने वाले हे.

तो मेने कहा की लाव में तुम्हारा प्रॉब्लम दूर कर देता हु; अब उसने अपनी बुक निकाली ही थी की तभी मेरी बहन चाय ले कर बहार आई; और प्रिया से कहा की क्या पढ़ाई चल रही हे? तो मेने कहा की हां दीदी प्रिया को कुछ मेथ्स में प्रॉब्लम थी वही बताने जा रहा था; तो दीदी ने कहा की ठीक हे तुम पहले चाय पि लो और फिर अच्छे से पढ़ाई कर लो; मुझे अपनी फ्रेंड के साथ २ घंटे के लिए बहार जाना हे; तो मेने कहा की ठीक हे दीदी.

तब मेरी माँ और पप्पा एक शादी में गए हुए थे और रात को आने वाले थे; अब में और प्रिया २ घंटे के लिए अकेले रहने वाले थे. में तो मन में ही खुश हो रहा था की भगवान जब देता हे तो छप्पर फाड़ के देता हे; सुहानी प्रिया आज दो घंटे के लिए मेरे साथ अकेली रहने वाली थी.

फिर में उसे पढाने लगा और वह भी मुज से समजने लगी; और उसको सब अच्छे से समजा कर मेने उसके मन की प्रॉब्लम को दूर कर दिया; तो उसने कहा की अंकुर तुम तो सर से भी अच्छे से समजाते हो; थेंक यु. मेने कहा की दोस्तो के बिच में थेंक यु सोरी नहीं होता हे; तो वह हँसने लगी.

फिर मेने पूछा की और कोई प्रोब्मेल हो तो बता दो में दूर कर देता हु; तो उसने कहा की तुम्हारे मम्मी पप्पा कहा हे? तो मेने कहा की वह लोग बहार गये हे और रात को देर से आने वाले हे; उसने कहा की इसका मतलब अब घर में हम दोनों अकेले हे क्या? तो मेने कहा की हां; फिर उसने कहा की मुझे और एक प्रॉब्लम हे क्या तुम दूर कर दोगे? मेने कहां क्यों नहीं बताओ क्या?

तो वह शरमाते हुए बोली की तुमने कभी किस किया हे? तो मे यह सुन कर चकित रहा गया;और कहा की नहीं. क्यों? तो उसने कहा की मेने भी नहीं किया हे. क्या तुम इसका अनुभव करना चाहोगे मेरे साथ? यह सुन कर मेने भगवान को थेंक यु कहा और उसे कहा की क्यों नहीं प्रिया में तो तुम्हे देख कर दीवाना हो जाता हु; और अपने होश भी खो बैठता हु; तो उसके कुछ कहने से पहले ही मेने उसे अपनी बाहो में पकड़ लिया और उसके होठ पर अपने होठ रख कर उसे किस करने लगा; वाह क्या अनुभव था दोस्तों में आप को बता नहीं सकता की में अपने सपनो की रानी को अपनी जिंदगी का पहला किस कर रहा था; वह भी पहली बार कर रही थी और में भी, अब मेरा लंड उसे सलामी देने लगा था और वह मुझे किस किये जा रही थी.

हम एक दुसरे को १० मिनिट ऐसे ही किस करते रहे और मेरा लंड उसे चूत पर महसूस होने लगा था तो उसने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और मुझे जोर से किस करने लगी; में तो अब सातवे आस्मां ने उड़ रहा था और किस किये जा रहा था.

फिर हमारे एक एक कर के कपड़े उतरते गये और फिर क्या हुआ होगा आप को बताने की जरुरत नहीं हे. हां मेने उसकी चूत का सिल तोड़ कर उस कलि को फुल बना दिया और उसे सेक्स की मजा दिलाई. वह मेरा लंड चूत में ले कर बहुत खुश हुई और मुझे आय लव यु कहा. मेने भी उसे आय लव यु कहा. फिर हम ने अपने कपडे पहने और वह अपने घर पर चली गयी.

Write A Comment