हेल्लो मेरे प्यारे दोस्तों क्या हाल चाल है आप सब क्या और कैसे हो आप सब | मुझे तो बड़ा मज़ा आता है जब भी मैं आप लोगों के लिए कुछ नया लेकर आता हूँ क्यूंकि इससे मुझे मन में शांति मिलती है | मेरे साथ कई लोग रहते हैं और मेरे दोस्त हैं सब पर उनकी जिंदगी में कुछ न कुछ घटना होती रहती है जो मुझे बताने का मौका मिल जाता है और स्टोरी की स्टोरी मिल जाती है | मुझे एक दिन में कई सारे ऐसे लोग मिलते हैं जो मुझे बताते हैं की क्या हुआ है उनके जीवन में और क्या करने की इच्छा रखते हैं वो आगे | मैंने भी कई बार ऐसा सुना है जो मुझे बिलकुल अजीब सा लगा पर मुझे ये नहीं मालूम था की कभी मुझे ऐसा किस्सा मिल जाएगा जिससे उसका कोई रिश्ता या नाता ही न हो | जी हाँ दोस्तों इत्तेफाक बड़ी चीज़ होती है जिंदगी मैं और ये कब कहाँ और किसके साथ हो जाए ये कोई भी नहीं जानता पर ये होता ज़रूर है किसी न किसी इंसान के साथ | मैंने भी महसूस किया है इसे अपनी जिंदगी मैं और चाहता हूँ कि आप सब भी इसका मज़ा ले और इसको महसूस करे | तो अब शुरू करता हूँ अपनी कहानी जिसमे है ऐसा रोमांच कि आप लोग जाने के लिए तरस जाएंगे कि ये हमारे साथ कुन नहीं हुआ |  आज की इस कहानी के साथ मैं अजय आप सब का स्वागत करता हूँ और बताता हूँ अपने सबसे प्यारे दोस्त राधे की कहानी | ये बात तब की है जब मुझे और उसे पहाड़ पे चढ़ने का शौक हुआ था | मैंने कभी भी नहीं सोचा था राधे इतना कमीना निकलेगा और वो किसी लड़की के साथ बिना किसी मकसद के सम्भोग कर लेगा | दोस्तों सम्भोग करना कोई भी गलत बात नहीं है पर मुझे लगता आप जिस इंसान को जानते हो और उसके लिए कुछ महसूस करते हो तब इसे करोगे तो ज्यादा मज़ा आएगा | मुझे अब इस बात से कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि आप क्या सोचते हैं मेरे बारे में या मुझे चोदु कहते हैं पर मैं तो ऐसा ही हूँ भैया और मुझे बिलकुल भी शर्म नहीं आती |

 

दो साल पहले हम लोग जम्मू गये हुए थे और वहां पे तो आप जानते हैं कई सारी पहाड़ियां है और ये किसी भी इंसान के लिए जिसे पहाड़ चढ़ने का शौक हो उसके लिए जन्नत से कम नहीं है | पर मैंने भी सोचा हमलोगों ने काफी अभ्यास कर लिया है तो किसी कठिन पहाड़ी पे चढ़ना हमारे लिए सही रहेगा | मेरे साथ राधे था उसकी दोस्त थी और जो हमारी ट्रेनर है वो थी | दोनों ही लडकियां हुस्न के मामले में एक से बढ़कर एक और उन दोनों का कोई जवाब नहीं | उसकी दोस्त नेहा की गांड बड़ी थी और हमारी ट्रेनर के दूध बड़े थे | दोनों ही मस्त मलाई जैसी कोमल और क्या खूबसूरती | चूँकि मै छोटा था उन लोगों से तो वो लोग मेरा बचो जैसा ख्याल रखते थे | राधे को इस चीज़ से बड़ी चिढ होती थी | वो मैडम पे भी लाइन मारता था पर मैडम मेरी तरफ ज्यादा रहती थी क्यूंकि उन्हें मुझसे बात करना मेरे साथ मस्ती करना मेरी खिचाई करना बड़ा अच्छा लगता था | मैंने कभी भी उनसे कोई गलत बात नहीं की थी और वो मुझे हर समय अपने साथ रखती थी और मुझे अज्जू आजू कहकर बुलाती थी | राधे भी कई बार उनके पास आता और कहता क्या मैडम आप इस बच्चे के साथ लगे हुए हो चलो मस्ती करते है बड़ो वाली | मैडम कहती चलो फिर थोड़ी देर बाद मेरे लिए कुछ लेकर आती और कहती मेरा बेबी अकेला था क्या ? मैं यूँही उनका हाथ पकड़ लेता और कहता आप क्यों गये थे | फिर वो कहती अरे यार नहीं जाती तो वो और उसकी दोस्त मुझे बोलते कि मैडम हमारे साथ बेईमानी करती है | इसलिए मुझे जाना पड़ता है और मुझे तो तुझे अकेला छोड़ देना बिलकुल भी पसंद नहीं है | मैंने उनसे पुछा मैडम मुझे लगता है मैं आपको पसंद करने लगा हूँ | मैडम ने कहा अच्छा बच्चे मुझसे होशियारी और मुझे गुदगदी करने लगती और गले लगाके कहती यार तुझसे दूर नहीं होना चाहती क्यूंकि तुझे पसंद तो मैं भी करती हूँ | मुझे उनसे प्यार होने लगा था पर वो मुझसे दो साल बड़ी थी पर इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता था | मुझे फर्क पड़ता था बस राधे और उसकी हरकतों से | वो अपनी दोस्त के साथ रोज़ सेक्स करता था और मैडम को भी ये बात पता थी पर वो कुछ कर नहीं सकती थी क्यूंकि वो दोनों अच्छे थे और प्रतोयिगता में जीतने के लायक थे और दोनों बालिग थे |

 

एक दिन मैंने देखा राधे आकेला पहाड़ी पे चढ़ा है और उसने कुछ करने की कोशिश की पर मैं उसके पास तक जा नहीं पाया | पर मैंने अपने दूरबीन से देखा की जहाँ से मैडम चड़ने वाली थी वहां से उसने एक पत्थर हिला दिया | मैं समझ तो गया था कि इसका प्लान मैडम को नीचे गिराने का है पर ये असलियत में चाहता क्या है | फिर मैंने सोचा इसके कैंप में जाके देखता हूँ | जैसे ही मैं वह पहुंचा तो मैंने सुना ये किसी दोस्त से बात कर रहा है कि अजय का पाटा आज काट दूंगा अब मैडम मेरे नाम की माला जपेगी | मैं समझ गया कि इसके दिमाग में चल क्या रहा है | मैंने मैडम से कहा सुनो न तो उसने कहा हाय मेरी जान कहो न | मैंने कहा क्या आज मैं तुमाहरे बाजु में रह सकता हूँ | उसने कहा तुम मेरे दिल में रहलो बाजू में क्या करना | मैंने कहा बस ऐसे ही मन है मेरा आपसे दूर रहा नहीं जाता | मैडम ने कहा ठीक है मेरे बाजू में आज तुम रहना | हमने चढ़ने की तैयारी की और जब चढ़ने लगे तो मैडम उसी जगह पर थी जहा का पत्थर हिलाया गया था | मैडम एक दम से नीचे गिरी पर राधे से पहले मैं कूदा और उनको पकड़ लिया | राधे ये सब समझ नहीं पाया और ना चाहते हुए भी हम दोनों को ऊपर खींचना पड़ा | मैडम ने कहा कैसे हुआ ये और वो डर गयी थी पर वो मेरे पास दौड़ के आई और गले लगाके बोली तुम ठीक हो न | राधे का चेहरा देखने लायक था उस समय | मैंने कहा जिसने गड्ढा खोदा वो उसी जाल में फास गया | मैडम मुझे अन्दर ले गयी और गोद में लिटा के कहा सच सच बताओ कुछ हुआ तो नहीं न मैंने कहा नहीं पर राधे बाजू में होता तो हो जाता | मैंने मोबाइल में रिकॉर्डिंग दिखाई और बताया देखिये | फिर उन्होंने मुझे और जोर से गले लगा लिया और कहा पहले बता दिया होता | मैंने कहा पहले बता देता तो ऐसे गले लगने और गोद में सर रखने थोड़ी मिलता | फिर मैंने कहा वैसी आपके बूब्स काफी बड़े बड़े है मेरे मुह में लग रहे हैं | वो हसने लगी और कहा अच्छा देखना चाहोगे मेरे बूब्स |

 

मैंने कहा क्या सच में देखने को मिलेंगे आपके बूब्स | उन्होंने मुझसे कहा सब तुमाहरा है जो चाहो कर लो | मैंने कहा ठीक है पर मुझसे अगर कुछ ज्यादा हो गया तो | तब उसने कहा मैं कुछ भी नहीं कहूँगी करलो तुम्हे जो करना है | मैंने जैसे ही उसका टॉप उतारा ब्रा के अन्दर इतने बड़े बड़े बूब्स थे कि मै तो देखके ही पागल हो गया | मैंने कहा मैं इनको आज़ाद करने वाला हूँ तो प्लीज ब्रा खोल लेने दो | उसने मुझे एक जोर का किस किया लिप्स पे और कहा बोला न सब तुमाहरा है करलो जो करना है | मैंने ब्रा खोला और उसके बूब्स में अपना मुह दबा दिया | अब मैंने उसके निप्पल चूसना शुरू किया ही था की उसने आहें भरना शुरू कर दिया | ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करो न मुझे अच्छा लग रहा है | मैंने जोर जोर से उसकी निप्पल चूसी और फिर कहा मुझे अब आपकी चूत में अपनी जीभ लगाना है | उसने अपना लोअर नीचे कर दिया और कहा लो कर लो | जैसे ही मैंने छाटना चालू किया वो ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करने लगी और ये सब बहार से राधे सुन रहा था | मैंने चाटना बंद किया और फिर उसकी चूत में लंड रगड़ के अनदार डाल दिया | वो फिर से ऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्हऊऊउम्म्म्म ऊऊन्न्ह्ह आआआअह्हह्हह्ह ऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् आअह्ह्ह्ह करने लगी और मैं उसे चोदता रहा | २० मिनट के बाद मेरा गाढ़ा माल उसकी चूत के अन्दर रह गया और उसका माल मेरे लंड पे लग गया | वो अब मुस्कुराने लगी थी और तीन घंटे की चुदाई के बाद हम दोनों बाहर निकले और राधे अपना लटका हुआ चेहरे लेकर यहाँ वहां घूम रहा था | मैडम अब खुलके मुझे सबके सामने गले लगाती और मैं भी उन्हें किस कर देता और हम दोनों हमेशा के लिए एक हो गये |

loading...

Write A Comment