मेरी गाँव वाली मामी की कामवासना


दोस्तो, मैं कुन्दन हूँ, ये मेरा निक नेम है. मेरा गांव भोपाल के पास है. मैंने इंदौर से इंजीनियरिंग किया है और मैं देवास में नौकरी करता हूँ. मेरी हाईट 5 फुट 6 इंच है. मेरी उम्र 24 साल है. मेरे लंड का साईज 8 इंच से ज्यादा है. मैं बहुत कामुक इंसान हूँ.

मैं इस साईट पर अभी नया हूँ. मैं आपको अपने जीवन में घटी घटना बताना चाहता हूँ. ये घटना मेरे और मेरी मामी के बीच की है. इस घटना को मैं कहानी के रूप में पहली बार लिख रहा हूँ, अगर कोई गलती हो जाए, तो प्लीज़ माफ कर देना. ये सच्ची घटना है.

मैं काफी समय बाद अपने मामा के घर गया था. उनके घर मैं मामा मामी और उनके दो लड़के हैं. दोनों लड़के अपने मामा के यहां रहकर पढ़ाई कर रहे हैं. मेरे मामा किसान हैं और मामी घर संभालती हैं. मेरी मामी की उम्र 32 साल है. वे भरे पूरे बदन की मालकिन हैं और बहुत सुंदर हैं. उनका नाम सीमा है.

जब मैं मामा के घर गया, तो मामा मामी मुझसे मिलकर काफी खुश हुए. हमने काफी देर तक बातें की, फिर खा पीकर सो गए.

सुबह मामा को फसल बेचने शहर जाना था, तो वो चले गए. वे दो दिन बाद वापस आने वाले थे. अब घर में मैं और मामी ही रह गए थे.

मैं शुरू से ही मामी को पसंद करता था और शायद मामी भी मुझे पसंद करती थीं. क्योंकि जब मैं उनके घर जाता था तो वे बहुत खुश हो जाती थीं. उनके सामने मैं जब भी जाता, तो वे अक्सर ब्लाउज पेटीकोट में मेरे सामने आ जाती थीं.
पर ऐसा मौका हमें पहली बार मिला था जब हम दोनों घर में अकेले थे.

सारा दिन ऐसे ही निकल गया. शाम को मामी खाना बना रही थीं. मैं भी वहीं खड़ा होकर उनसे बात कर रहा था. मामी जब कुछ सामान लेने को हुईं, तो उनकी गांड मेरे लंड को छू गई, जिससे मेरे बदन के रौंगटे खड़े हो गए. हालांकि उनके चेहरे पर कोई अलग भाव नहीं थे, मुझे ऐसा लगा, जैसे उन्होंने ये सब जानबूझ कर किया था.
वे अपने काम में लग गईं.

कुछ देर बाद मैं बात करते हुए उनके पीछे खड़ा हो गया, जिससे मेरा लंड उनकी गांड को छू रहा था. मैं बहुत देर ऐसे ही खड़ा रहा. वो मुझे अपने महसूस करती रहीं. हम दोनों ही चुप थे, वो अपने काम करती रहीं. मैंने एक दो बार इसी चुप्पी की अवस्था में अपने खड़े होते लंड की नोक को उनकी गांड में लगाने की कोशिश भी की, जिससे मुझे उनकी कोई प्रतिक्रिया देखने को मिल जाए. ऐसा मैंने चार पांच बार किया, पर उन्होंने मुझसे न ही कुछ कहा और न ही वे मेरे आगे से हटीं.

जब उन्होंने कुछ नहीं कहा, तो मैंने धीरे से उनकी कमर में अपना हाथ डाला और गांड पर लंड का दबाव बढ़ा दिया, जिससे उनकी आह निकल गई और वे थोड़ा कसमसा कर आगे को खिसक गईं. मैंने भी आगे खिसक कर उनकी गांड पर दबाव बनाया, तो वे पलट गईं.

मामी कहने लगीं- अगर किसी को पता चल गया, तो मेरी बहुत बदनामी होगी.
वे मुझे मना करने लगीं.
मैंने उनको अपनी तरफ खींचते हुए कहा- किसी को पता नहीं चलेगा.
मैंने उनको विश्वास दिलाया, तब जाकर उन्होंने हां कह दिया.

मैंने उन्हें अपने बाहुपाश में भर लिया. मामी ने मुझसे लिपटते हुए कहा- मैं तुम्हारे साथ काफी पहले से ये सब करना चाहती थी, पर मैं बदनामी से डरती थी. मुझे कभी तुमसे कहने का मौका भी नहीं मिला.
मैंने भी बताया- मामी मैं भी आपको बहुत पसंद करता हूँ.

उसके बाद मैंने उनको वहीं पकड़ कर उनके होंठ पर अपने होंठ रख दिए. मैं बहुत देर उनके होंठ चूसता रहा. वो मेरा साथ देती रहीं.

फिर वे अलग हो गईं और बोलीं- ये सब खाना खाने के बाद लेना.
मैं मान गया और अलग हो गया.

कुछ देर बाद हम दोनों ने एक ही थाली में साथ में खाना खाया. मैं बड़े प्यार से उनको निवाला खिलाता रहा और वो मेरे होंठों से निवाला ले कर खाती रहीं. मामी भी मुझे अपने मुँह से खाने का कौर खिला देतीं, तो मैंने उनके पूरे होंठों समेत निवाले को खाते हुए अपने होंठों से दबाए रहता. उस खेल में हम दोनों को बड़ा मजा आ रहा था.

खाने के बाद मैंने देखा कि मामी की आंखें वासना से लाल हुई पड़ी थीं. वो किसी तरह से थाली लेकर उठीं और बर्तन समेटते हुए उठ गईं.

मैंने कहा- मैं कमरे में आपका इन्तजार कर रहा हूँ.
उन्होंने मुझे बस प्यार से देखा और सर हिला कर अलग हो गईं.

मैं उनके कमरे में जाकर टीवी देखने लगा. वे अपना काम खत्म करके रूम में आ गईं और मेरे साथ बेड पर बैठ गईं.

कुछ देर हमने इधर उधर की बातें की. फिर मैंने उनका हाथ पकड़ कर अपने पास खींच लिया. हम दोनों एकदम करीब होकर बातें करने लगे. हम दोनों की गर्म सांसें एक दूसरे से लड़ने लगी थीं.

उन्होंने मुझे बताना शुरू किया- अब तुम्हारे मामा मुझसे पहले की तरह प्यार नहीं करते. मैं तुम्हारे साथ बहुत पहले से प्यार करना चाहती थी, पर डर लगता था. आज जैसा मौका भी पहले कभी नहीं मिला.
मैं- मामी मैं भी आपको बहुत पसंद करता हूँ.

ये कह कर मैंने अपने होंठ मामी के होंठों पर रख दिए. हमने बहुत देर तक एक दूसरे को चूसा. फिर मैंने मामी की साड़ी को उनसे अलग किया और ब्लाउज पेटीकोट भी उतार दिया.

अब मामी पीले रंग की पेंटी में मेरे सामने थीं. उन्होंने ब्रा नहीं पहनी थी. उनके मस्त चुचे एकदम उठे हुए मुझे ललचा रहे थे. इसके बाद उन्होंने मेरी टी-शर्ट और लोवर भी निकाल दिया. मैं भी अब अंडरवियर में था.

लगभग नंगे होकर मैंने मामी को वहीं बेड पर लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर बेतहाशा चूमने लगा. हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूस रहे थे, जैसे बहुत प्यासे हों. हमने एक दूसरे के होंठों को चूस चूस कर लाल कर दिया था.

होंठ चुसाई का आनन्द लेने के बाद मैंने उनके मम्मों की तरफ नजर की. मैंने मामी के दोनों मम्मों को बारी बारी से बहुत देर चूसा. उनके चूचे बहुत रसीले थे. उनके चूचों के निप्पल को मैंने बहुत काटा, जिससे उनको दर्द होने लगा, पर उनको मजा भी बहुत आ रहा था. वो बस ‘आहहह आहहह..’ कर रही थीं.

फिर मैंने उनकी पेंटी उतार दी. मामी की देसी चूत देखकर मेरा लंड जैसे फटने को हो गया. उनकी चुत की सुगंध से तो जैसे मैं पागल ही हो गया. मैंने उनकी जांघों के जोड़ पर अपनी जीभ लगा दी और बहुत देर तक मैं उनकी चुत चूसता रहा.

मामी ने भी मस्ती से अपनी टांगें फैला दी थीं. उनकी चुत में मैंने अन्दर तक जीभ डाल दी. वे बस ‘आहह आहहहह सीईईई..’ करती रहीं. वे मुझे अपनी चुत पर दबाती रहीं. उनका सारा चुत रस मैं पी गया.

मुझे औरतों की चुत चूसना, उनकी गांड सूंघना और चाटना बहुत पसंद है. बहुत लोगों को ये गंदा लगता है. पर इससे औरतों को जो सुख मिलता है, खुशी मिलती है … उसे किसी भी तरह से शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है. अगर आपको चुदाई का पूरा मजा लेना हो, तो ये सब करना जरूरी है. इससे दोनों को तृप्ति मिलती है.

फिर मैंने मामी को लंड चूसने को कहा, तो वो मेरी तरफ देखने लगीं. फिर बिना कोई सवाल किए मेरा लंड धीरे धीरे चूसने लगीं.
मैं- आह चूसो मामी … बहुत मजा आ रहा है और आहह आह … हां जोर से चूसो.

कुछ देर लंड चूसने के बाद उन्होंने लंड छोड़ दिया और मेरी तरफ देखने लगीं. उनकी आंखों में वासना का गहरा समन्दर दिख रहा था.

कुछ देर एक दूसरे को देखने के बाद मैंने मामी को लेटा दिया और उनके ऊपर आकर उनको किस करने लगा. मैंने उनके सारे बदन को चाटा. वो बस ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करती रहीं.

मैंने उनके पूरे बदन को, यहां तक कि उनको औंधा लिटाकर उनकी गांड की दरार और गांड के छेद को भी बहुत चाटा. वो बस मस्त गर्मागर्म आहें भरती रहीं. उनकी गांड की मादक खुशबू ने मुझे पागल कर दिया था.

मैं जिसके साथ भी सेक्स करता हूँ, ऐसे ही करता हूँ. इससे दोनों के मजे में चार चांद लग जाते है. मुझे इसमें शर्म भी नहीं आती … क्योंकि सेक्स का असली मजा इसमें ही है.

फिर मैं उनकी दोनों टांगों के बीच आ गया. मैंने उनकी गांड के नीचे तकिया रखा और अपना लंड उनकी चुत पर रगड़ने लगा. वे लंड का अहसास पाते ही ‘आहहह ईईईई..’ करने लगीं और इधर उधर सिर पटकने लगीं. उनकी चुदास चरम पर दिखने लगी थी.

मामी- कुन्दन, धीरे से डालना … तेरा लंड बहुत बड़ा है.
मैं- मामी, आप डरो नहीं.

मैं अपने लंड का दबाव मामी की चुत पर बढ़ाने लगा, जिससे मेरे लंड का टोपा मामी की चुत में चला गया. मामी काफी दिनों बाद चुद रही थीं, जिससे उनकी चूत एकदम कस सी गई थी. लंड का सुपारा लेते ही मामी ‘आहहह..’ करने लगीं. उनकी आंखें फ़ैल गई थीं और मुठ्ठियों ने चादर को कसके पकड़ लिया था.

मैं यह देख कर लंड का टोपा चुत में डालकर रूक गया. जब मामी का ध्यान बंटा, तब मैंने जोर का झटका दिया, जिससे मामी की चीख निकल गई- आहहहह आहहह … मर गई …

मेरा आधा लंड मामी की चुत में चला गया. आधा लंड पेल कर मैं रुक गया और मामी को चूमने लगा. मामी जब कुछ शांत हुईं, तब मैंने धीरे धीरे पूरा लंड उनकी चुत में उतार दिया और रुक गया.

फिर कुछ देर बाद मैं धीरे धीरे धक्के लगाने लगा. मामी बस ‘आहहह अहह ईई ईईई..’ करती रहीं- आह … थोड़ा तेज करो.

अब मैंने अपनी चोदने की गति बढ़ा ली और तेज तेज धक्के देने लगा. मामी की चुत बहुत गीली हो चुकी थी. कमरे में फच पच फचा फच की आवाज आ रही थी.
मामी- आह कुंदन … और तेज चोदो मुझे … आज से मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ. आहहह आहह और तेज … आह उईई … मर गई … और तेज करो …

ये कहते हुए मामी ने चूत का पानी छोड़ दिया और वे ढीली पड़ गईं. उनकी चूत ने रोना शुरू कर दिया, पर मैं चुदाई करने में लगा रहा. उनकी गांड के नीचे तकिया लगा होने के कारण पूरा लंड उनकी चुत में अन्दर तक जा रहा था. इससे उनको तकलीफ और मजा दोनों आ रहा था. चूंकि मामी झड़ चुकी थीं, तो बस शिथिल होकर पड़ी थीं और मेरे लंड को बस लिए जा रही थीं. उनकी तरफ से कोई भी झटका नहीं मिल रहा था.

कुछ देर बाद मामी फिर से गर्म होने लगीं और उन्होंने मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया. अब खुद मामी नीचे से गांड उठा उठा कर मेरा लंड खाने लगीं. हम दोनों एक दूसरे को चोदते हुए एक दूसरे के होंठों को चूस रहे थे.

मैं- ये लो मामी … अपने भांजे का लंड अपनी गर्म चुत में खा लो … बहुत मजा आ रहा है … आह आपकी चुत बहुत गर्म है मामी!

मैं तेज झटके देने लगा … जिससे मामी को और मजा आने लगा. उन्होंने अपनी बांहों में मुझे कस लिया.
मामी- हां चोदो मेरे जानू चोदो … अपनी मामी को … मैं कब से इस दिन का इंतजार कर रही थी.
मैं- हां मामी मैंने भी इस दिन का बहुत इंतजार किया है. ये लो बहुत मजा आ रहा है … मामी … लंड का मजा ले लो मेरी जान.

कुछ और झटके देने के बाद मेरा माल निकलने को हो गया- मामी मेरा निकलने वाला है, कहां निकालूँ.
मामी- मेरे अन्दर ही निकाल दो, मेरा भी आने वाला है.

कुछ और झटके देने के बाद मामी और मैं दोनों एक साथ झड़ गए. मैंने अपना वीर्य मामी की चुत में ही निकाल दिया, जिससे मामी की चुत भर गई. उनकी चुत से मेरा रस बाहर चादर पर टपकने लगा.

मामी पूरी तरह से खुश थीं.
फिर मैं उनके बगल में लेट गया. मामी मेरे ऊपर आकर मुझे चूमने लगीं. मेरे निप्पल काटने लगीं. मेरे होंठ चूसने लगीं. हम दोनों नंगे ही चिपक कर प्यार की बातें करने लगे.
मामी ने मुझे ‘आई लव यू..’ कहा.

उस रात और दो बार मैंने मामी को अलग अलग पोज में चोदा और एक बार उनको अपना वीर्य भी पिलाया, जो उन्होंने मेरे बहुत कहने पर पिया.

उस रात मैंने उनकी गांड को भी सूंघा और चाटा. मैंने ऊपर भी लिखा था कि मुझे औरतों और लड़कियों की गांड सूंघना और चाटना बहुत पसंद है. जिन औरतों ने अपनी गांड चटाई होगी, उनको इस सुख कर पता होगा कि गांड चटाने में कितना मजा आता है. मुझे मामी की गांड की खुशबू बहुत ही सेक्सी लगी.

अगले दिन रात को मैंने उनकी गांड भी मारी, जिसका मजा मैं बयान नहीं कर सकता.

मैं कोई लेखक नहीं हूँ, मैंने सिर्फ कोशिश की है. मैंने इस सेक्स कहानी में न ही कोई मिर्च मसाला डाला है … जो कुछ भी किया था, वो सब वैसा का वैसा ही लिख दिया है.
ये थी मेरे जीवन की सच्ची सेक्स कहानी वाली चुदाई की घटना.


0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  1. BruceUriva says:
    Your comment is awaiting moderation. This is a preview, your comment will be visible after it has been approved.

    Click the “Download Now” button to download Automatic Mouse and Keyboard activate code.
    The whole process will just take a few moments.

    Improves your overall productivity by providing a faster way of typing and by automating the clicking process withing predefined locations

    Mirror Link —> https://serial4download.com/crack/automatic-mouse-and-keyboard-95211

    · Release version: 6.1.1.8
    · Build date: June 13 2019
    · Company: Robot Soft Studio
    · Downloads: 10305
    · Download type: safety (no torrent/no viruses)
    · Status: clean (as of last analysis)
    · File size: na
    · Price: no cost
    · Special requirements: no
    · Supported systems: Windows 10 64 bit, Windows 10, Windows 2003, Windows 8 64 bit, Windows 8, Windows 7 64 bit, Windows 7, Windows Vista 64 bit, Windows Vista, Windows XP, Windows 2K
    · Rating:

    Tags cloud:
    automatic mouse and keyboard key crack, automatic mouse and keyboard crack version, automatic mouse and keyboard crack serial number, automatic mouse and keyboard licence keys, automatic mouse and keyboard activate code, automatic mouse and keyboard crack windows, automatic mouse and keyboard keygen crack, automatic mouse and keyboard activator, automatic mouse and keyboard full version with keys latest, automatic mouse and keyboard crack patch

    More software: here



Nude Celebs | Porn Images | Sexy Mia Khalifa | Adult Instagram | Sex Cartoons