मैंने अपनी छोटी बहन की सील बंद चुत की चुदाई की

loading...

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम राजीव है।मैं बिहार के रहने वाला हूँ । मैं पटना में रह कर पढ़ाई करता हूं । मैं sexkahani.net के नियमित पाठक हु।इसीलिए मैं सोचा की अपनी एक सच्ची कहानी को आप लोगो के सामने पेश करता हूँ। मैं सीधे अपने कहानी पर आता हूं। ये कहानी 3 महीना पहले की है मैं घर जाने वाला था।मेरी एक छोटी चेचेरी बहन यही होस्टल में रह कर पढ़ाई करती है और उसका नाम प्रिया है जो देखने मे बहुत सुंदर और सेक्सी है। वो बोली भैया हम भी घर चलेंगे।ऐशे तो हम दोनों हर बार साथ मे ही घर जाते थे। हम बोले ठीक है चलो। और इसबार अपनी बहन को बोले कि एक दिन पहले मेरे रूम में आ जाओ। ऐशे मैं फैमिली वाले रूम में भारे ले कर रहता हूं।वो बोली ठीक है भैया और बोली शाम में आ आप आ जाओ हमको लेने और हम उनको लेने चले गये। हम दोनों घूमते हुए रूम आ गए। फिर कुछ देर बाद प्रिया खाना बनाई।हम दोनों एक साथ खाना खाये।फिर बात करने लगे।बात करते करते 11 बज गया।फिर हम बोले प्रिया से सो जाओ। रूम में एक ही बेड है।हम बोले प्रिया तुम ऊपर सो जाओ हम नीचे सो जाते है।तो मेरी छोटी बहन बोली भैया आप भी ऊपर ही सो जाओ। एक साथ क्या होगा।हम बोले ठीक है।प्रिया बोली भैया आप थोड़ा बाहर जाओ कपड़ा चेंज करना है।हम बाहर चले गए।फिर कुछ देर बोली भैया आ जाओ अंदर ।अंदर गया देखा प्रिया नाइटी पहन ली थी। नाईटी में बहुत सेक्सी लग रही थी। फिर हम दोनों बेड पर लेट गए।हम लाइट को ऑफ कर दिए। प्रिया को बोले चलो अब सो जाओ ।प्रिया बोली ठीक भैया।बेड भी छोटा था।किसी तरह से एडजेस्ट हो जा रहा था।फिर हम दोनों सोने लगे। हमको नींद नही आ रहा था।लेकिन पता नही कब सो गए।कुछ देर मेरा नींद खुला तो देखा कि प्रिया मेरे से पूरा चिपक कर और मेरे ऊपर पैर चढ़ा कर सो रही थी ।और एक हाथ मेरे अंदर वियर में डाल कर मेरे लंड को पकड़ रखी थी।ये देख कर तो मैं हैरान था।लेकिन मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।हम सोचे की वो सपने में ऐसा कर रही होगी।मेरा लंड रोड जैसा टाइड हो गया था।कुछ देर बाद देखा कि प्रिया मेरा लंड को आगे पीछे करने लगी।हम कोई विरोध नही किये।हम भी सोचे कि आज प्रिया को चोद के ही रहेंगे।क्यो की मेरा भी ये पहली बार होने वाला था।हमको बहुत मज़ा आने लगा था।हम बिना कुछ बोले अपना मुँह उसके मुँह में डाल कर किश करने लगा।प्रिया भी कुछ नही बोली।वो भी साथ दे रही थी।रूम में पूरा अँधेरा था।जिससे हम दोनों एक दूसरे का चेहरा नही।देख पा रहे।जिससे शर्म की कोई बात ही नही था।अब हम एक हाथ उसके नाइटी में डाल कर बूब्स को दबाने लगा प्रिया ब्रा नही पहनी थी।अब उसके मुँह से आवाज निकल गयी।वो अब सिसकिया लेने लगी।आहं आहं आहं।,,……….उ उ उ उ उ करने लगी।और मैं अपना एक हाथ चुत पर रखने का कोशिश किया तो ।हम देखे की प्रिय पेंटी भी नही पहनी थी।जिससे मेरा हाथ सीधे उसकी कोमल सी नंगी चुत पर पड़ गया। प्रिया की चुत पर बड़े बड़े बाल था और उसकी चुत गीली थी।हाथ पड़ते ही उसके पूरे शरीर मे करेंट दौर गया।बाप रे।प्रिया की क्या चुत थी।बहुत मुलायम और गद्देदार चुत थी।और चुत की लिप्स बहुत मोटी थी।अब में उसको धीरे धीरे सहलाने लगा ।मेरी छोटी बहन की मुँह से और तेज सिकिया निकल रही थी।उसके चुत की छेद में एक ऊँगली अंदर डालने लगा।उसकी चुत की छेद बहुत टाइड थी।धीरे धीरे अपने ऊँगली को अन्दर बाहर करने लगा।फिर हम उसके नाइटी उतारने लगा प्रिय अपना कमर उठा कर नाइटी उतारने में हेल्प की।अब वो पूरे तरह से नंगी हो गयी थी।हम भी अपना पूरा कपड़ा उतार दिया।अब में उसके कमर के नीचे एक तकिया लगाया।जिससे उसकी चुत ऊपर उठ गया।अब में उसके चुत पर मुँह लगा कर चुसने लगा
चुत चुसने में बहुत मज़ा आ रहा था।वो लगातार जोर जोर से सिसकिया ले रही थी।अउ अउ अउ।।।इस इस।।उ उ ऊ ऊ।।……..मम्मी मम्मी कर रही थी अब वो पागलो की तरह कर रही थी। ईस दौरान दो बार छोटी की चुत से पानी छूटा था। जिसे हम पी गए ।फिर हम अपनी बहन की पैर को फैला दिया ताकि चुत की छेद का मुंह खुल सके।फिर मैं अपना लंड को अपनी प्यारी से छोटी बहन की कोमल चुत पर रगड़ने लगा।छोटी तो और भी मचल गयी।मैं उसके चुत पर बहुत सा थूक लगाया।फिर हम अपने छोटी बहन की टाइट चुत में लंड घुसाने लगा।लंड नही घुस रहा था।और रूम में अंधेरा होने के वजह से कुछ नही दिख रहा था।और लंड फिसल जा रहा था।फिर प्रिया ने मेरे लंड को पकड़ कर चुत के छेद पर सेट किया ।फिर हम अपने मुँह छोटी की मुँह में डाल कर किश करने लगा औऱ मैं अपने दोनों हाथो से प्रिया को जोड़ से पकड़ लिया।फिर हम लंड को चुत में धीरे धीरे डालने लगा ।लंड का सूपड़ा थोड़ा सा अंदर गया।प्रिया को दर्द हो रहा था।वो ऊपर खिसक रही थी।चुत में लंड अंदर नही जा रहा था आसानी से। फिर हम छोटी को जोर से पकड़ लिया।जोर जोर से तीन झटका मारा और अपना पूरा लंड प्यारी बहन की चुत में समा दिया।उसकी मुँह मेरे मुंह मे होने की वजह से उसकी चीख बाहर नही आ सका।वो सर पटक रही थी।और छटपटा रही थी हम जोड़ से पकड़ कर रखा।मेरे भी लंड में बहूत जलन हो रहा था।ऐशे ही हम कुछ देर तक शांत रहा।इस बीच मैं उसका बूब्स दबा रहा था और उसकी होठों को चूस रहा था।ताकि दर्द कम हो सके।अभी तक हम दोनों भाई बहन कुछ नही बोल रहे थे।फिर हम हिम्मत करके धीरे से उसके कानों में बोला अब शुरू करे वो बोली हाँ भैया।फिर हम धीरे धीरे लंड को अंदर बाहर करने लगा।अब प्रिया की दर्द मज़े में बदलने लगी। वो फिर से सिसकिया लेने लगी।आ आ आ उ उ उ उ ………….उ।उ।करने लगी और अपने कमर को भी उछालने लगी।हम भी अपना रफ़्तार बढ़ा दिया।प्रिया अब जानत के सैर कर रही थी।वो बोल रही थी भैया और जोर से चोदो अपनी बहन को हम बोले ठीक है मेरी प्यारी बहन।ऐशे ही दस मिनट तक चोदता रहा पूरा रूम पच पच की आवाज से गूँज रही थी।अब प्रिया का शरीर अकड़ने लगा।हम समझ गए अब झड़ने वाली है छोटी।मैं और अपना स्पीड बढ़ा दिया।कुछ देर बाद प्रिया झर गयी वो शांत हो गयी।हम प्रिय से पूछें मेरा भी निकाने वाला है कहाँ गिराए तो छोटी बोली भैया अंदर ही गिरा दो।फिर हम भी कुछ देर बाद झर गया। अपना गर्म गर्म वीर्य से अपनी बहन की चुत भर दिया।हम दोनों ऐशे ही लेटे रहे।पता नही कब नींद आया गया ऐशे ही।फिर एक घंटा बाद नींद खुला।फिर से अपनी बहन को चोदा।उस रात अपनी बहन को दो बार चोदा।फिर सुबह नींद खुला तो देखा प्रिया अब भी सो रही थी।सुबह के 9 बज गए थे।रूम में धूप आ गया था।और पूरे रूम में रोशनी था।हम पहली बार लाइट में अपनी बहन का दूध से गोरी बदन देख रहा था ।और देखा कि तकिया पर बहुत से खून लगा हुआ था।फिर हम प्रिया को उठाये और बोले उठो देखो कितना टाइम हो गया है।वो उठते ही हमको एक किश किया।फिर उसकी नजर तकिया पर पड़ा और बोली भैया तकिया गंदा हो गया।उसमे पूरा ब्लड लग गया।बोली भैया साफ कर देते है।हम बोले इसको कभी नही धोना है उसको अपनी प्यार की निशानी के तरह रखेंगे तओ वो बोली ओके भैया आप कितने अच्छे है।फिर हम बोले चलो जल्दी से फ्रेश हो जाओ घर के लिए भी निकलना है।तो वो बोली भैया आज नही जाएंगे कल जाएंगे एक दिन और पूरा मस्ती करेंगे हम बोले ठीक है मेरे जान जैसी तुम्हरी इच्छा है।फिर वो बाथरूम जाने लगी
वो थोड़ा लंगड़ा के चल रही थी।हम दोनों फ्रेश हो गए फिर हम बोले हम बाहर जाते है।खाने का कुछ ले आते है।और हम बोले दर्द का दवाई और i pill ला के दे तो वो बोली नही भैया हम बोले कुछ हो जाएगा तो बोली भैया मेरा दो दिन में पीरियड आने वाला है।हम ठीक है।दो दिन तक अपनी बहन को खूब चोदा सभी पोज़ में।उसने हमसे वादा लिया भैया जब तक मेरी शादी नही होगा तब तक आप मेरे पति रहेंगे।और बोली भैया हर संडे आपके साथ बिताउंगी। हम बोले ओके मेरी जान।फिर हम दोनों घर चले गए।घर पर भी मौका पा कर बार चोद लेते है अपनी बहन को। हम दोनो भाई बहन का चोदम चोदा का खेल चल रहा है।आप को ये कहानी कैसी लगी।हमको आसा है कि अच्छी लगी होगी ।ये मेरी पहली कहानी है जो भी गलती होगी माफ करना।


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...
2 Comments
  1. October 9, 2017 |
  2. October 9, 2017 |