स्कूल के माली से चूत और गांड चुदवाई

 
loading...
loading...

नमस्कार दोस्तों, कैसे हैं आ सभी मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी अपने जीवन में खुश होगे | मेरा नाम शांति बाई है और मैं कटनी की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 40 साल है और मैं एक विधवा हूँ | मेरी उम्र इतनी है फिर भी मैं लगती 30 32 साल की हूँ | ऐसा मुझे लोग कहते हैं और मैंने भी अपने आपको आईने में देखी हूँ | मेरा फिगर भरा हुआ है और मेरा एक बेटा है जो कि बाहर रह कर जॉब कर रहा है | मैं दिखने में बहुत गोरी हूँ और कंजी  आँखे है मेरी | दोस्त मैं अपने जीवन की एक दम सच्ची घटना बताने जा रही हूँ | आज जो मैं आपको कहानी बताने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है इसे पहले मैंने कभी कोई कहानी नही लिखी और मैं कभी कभी ही कोई सेक्स स्टोरी पढ़ती हूँ | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा वक़्त नहीं लूंगी और अपनी कहानी शुरू करती हूँ |

दोस्त, ये घटना पिछले साल की है | मैं स्कूल में टीचर हूँ और मै कला विषय की अध्यापिका हूँ | जहाँ मेरा रूम है वहां की खिधि मैं हमेशा खुली रखती हूँ क्यूंकि पीछे एक गार्डन है और वहां कई सारे पेड़ पौधे लगे हुए हैं | वहां से मुझे ठंडी हवा के साथ साथ कई पक्षियों का चेह्चाहना पसंद है | वहां की देखभाल एक माली करता है जिसका  नाम खूबचंद है | वो एक 50 साल का आदमी है | एक दिन की बात है मैं अपने रूम में ही बैठी हुई थी और लंच का रही थी | तभी मेरी नजर खूबचंद पर पड़ी | मैंने देखा कि वो अपने लंड को बाहर निकाल कर उसे हिला रहा था | उसका लंड काफ़ी बड़ा और मोटा था | ये देख कर मै खाना खाना ही भूल गयी और उसे देखने लगी | वो अपने लंड को धीरे धीरे हिलाते हुए फिर जोर जोर से हिलाने लगा और फिर कुछ मिनट के बाद वो झड़ गया | ये सब देख कर मुझे महसूस हुआ कि मेरी चूत गीली हो गयी है | मेरा दिल जोर जोर से धड़कने लगा था | यही सब सोचते सोचते मैं खाना खाने लगी | लंच के बाद भी मेरा फ्री पीरियड था तो मैंने उस पीरियड का फायदा उठाने का सोची |

मैंने अपने रूम के दरवाजे को हल्का सा खुला छोड़ कर बंद कर दी | फिर मैं अपने चेयर पर बैठ गयी और अपनी साड़ी ऊपर तक कर ली और अपना एक हाँथ डाल कर अपनी चूत को रगड़ने लगी | मुझे बहुत अच्छा लग रहा था | मैं फिर अपनी चूत में ऊँगली डाल कर अन्दर बाहर करने लगी | मैं गरम हो चुकी थी  और झड़ने वाली थी तो मैंने जोर जोर से ऊँगली से अपनी चूत की चुदाई करने लगी | उसके बाद मैं झड़ गयी | मै अपने हाँथ धोने के लिए जैसे ही उठी तो देखा कि खूबचंद फिर से अपने लंड को बाहर निकाल कर हिला रहा था और वेओ मेरी तरफ ही देख रहा था | मुझे लगा शायद उसने मुझे चूत में ऊँगली डालते हुए देख लिया होगा | तो मैंने खूबचंद को आवाज लगाई और उसे खिड़की के पास आने का इशारा किया | तो वो अपने लंड को हिलाते हिलाते ही मेरे पास आ गया तो मैंने उसे कहा कि तू पागल है क्या जो अपने लंड को हाँथ में ले कर हिलाते हुए मेरे पास आया | इसे अन्दर कर | फिर उसने अन्दर कर दिया | मैंने पूछा कि तूने मुझे कुछ करते हुए देखा क्या ? तो उसने हाँ कहा और कहा कि मैडम मैं आपको चोदना चाहता हूँ | मैं भी उसके लंड को देख कर मस्त हो गयी थी तो मैंने भी उसे कह दी कि मै तुझसे चुदवाना चाहती हूँ | तो मैंने उसे कहा कि तू शाम को कभी भी मेरे घर आ जाना | तो उसने कहा ठीक है |

फिर मैं शाम को उसके आने का इन्तजार करने लगी | वो करीब 8 बजे के आस पास मेरे घर आया | मैंने तुरंत दरवाजा खोली और उसे अन्दर कर लिया | फिर मैंने दरवाजा बंद की और उसे पानी के लिए पूछा तो उसने मना कर दिया | फिर उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और अपना लंड मेरी गांड में टिका दिया | अब वो मेरी गर्दन को चाट रहा था और आगे हाँथ कर के मेरे दोनों दूध को दबा रहा था | मैं भी पीछे हाँथ करके उसके पेन्ट के ऊपर से ही उसके लंड को दबा रही थी |

फिर हम दोनों आमने सामने आ गये और उसने अपने होंठ मेरे होंठ में रख दिया और मुझे चूमने लगा | मैं भी उसका साथ देते हुए उसको चूम रही थी | फिर उसने मेरे मेरे साड़ी के पल्लू को नीचे कर दिया और मेरे ब्लाउज को खोल दिया | अब मै उसके सामने ब्रा में खड़ी थी | वो मेरे दूध को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा तो मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ आवाजे निकलने लगी | फिर उसने मेरे ब्रा को भी उतार दिया | अब वो मेरे उभार को अपने हाँथ में ले कर उसे दबाते हुए चूसने लगा और मेरे निप्पल्स को भी चूस रहा था और मै आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसके सिर के बाल सहलाने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से चूस रहा था मसल रहा था और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया ले रही थी |

उसके बाद मैं नीचे बैठ गयी और उसके पेन्ट को उतार दी और फिर अंडरवियर को भी | अब मैं उसके लंड को हाँथ में ले कर चाटने लगी तो वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करने लगा | मैं उसके लंड के हर हिस्से को अच्छे से चाट रही थी और वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ  करते हुए सिस्कारियां ले रहा था | उसके लंड को चाटने के बाद मैंने उसके लंड को अपने मुंह में भर ली और चूसने लगी और वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ  करते हुए मेरे मुंह की चुदाई करने लगा था | मैं जोर जोर से उसके लंड को चूस रही थी और वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए आन्हे भर रहा था | मैंने उसके लंड को 15 मिनट तक चूसी थी |

फिर उसके बाद उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और खुद भी पूरा नंगा हो गया था | फिर उसने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरी चूत पर अपनी जीभ रख कर उसे चाटने लगा और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपने दूध को मसल रही थी | वो मेरी चूत को को अन्दर तक चाट रहा था और मैं बस आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया ले रही थी | फिर उसने अपना लंड मेरी चूत में डाला और मुझे जोर जोर से चोदने लगा | मैं भी उसका साथ देते हुए आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपनी गांड उचका उचका के चुदवा रही थी | वो मेरी चूत को जोर जोर से धक्के मार मार के चोद रहा था और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया ले रही थी |

उसके बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया | अब वो मेरे पीछे आ गया और मेरी गाड़ में अपना लंड डाल दिया और चोदने लगा | मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए उससे चुदवा रही थी | वो मुझे जोर जोर से मेरी गांड चोद रहा था | आधे घंटे की चुदाई के बाद उसने मेरी गाड़ में हो अपना माल निकाल दिया था |

तो दोस्तों, ये थी मेरे जीवन की सच्ची कहानी | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आयगी |


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...
3 Comments
  1. SATISH KULKARNI
    January 9, 2018 |
  2. January 10, 2018 |
  3. karan
    January 10, 2018 |
loading...
loading...