जिसको समझा रंडी वो निकली सील पैक माल

 
loading...
loading...

हेल्लो मेरे लंड के प्यासों कैसे हो आप और कैसी है आप सब की चूत की चाहत और मैंने भी यही सोचा है की आज मैं आप लोगो की मुठ वर्षा करवा के ही दम लूँगा | मैंने कभी भी ये नहीं सोचा था की आप लोगो के साथ मेरा ऐसा रिश्ता बन जाएगा कि मैं हर दिन यहाँ आके आप सब का मनोरंजन करूँगा और मैं ऐसा करता भी हूँ | मुझे अच्छा लगता है जब मैं आपको अपनी चुदाई की कहानी बार बार बताता हूँ | और आपो लोग भी मेरी कहानी मस्ती में पढ़ते हो और अपना प्यार मुझ तक भेजते हो | दोस्तों ये रिश्ता ऐसा ही चलता रहे और अप्प लोगो पे चूत की बारिश होती रहे और मुझे भिओ आपका प्यार बेहिसाब मिलता रहे | कभीगुरुर नहीं किया इस बात पर अल्लाह का करम है मौला का करम है जो इतना प्यार मिलता है | मैंन परसों ही एक लड़की की चूत बजायी है तो पेश है आपके सामने वो नजराना जो मैं अपने लंड के पिटारे से खोल रहा हूँ | मैंने कुछ भी नहीं किया है बस मैंने उस लड़की से कहा जी आप मेरे साथ किनारे में चलोगी क्या तो उसने कहा चलो न मैं तो कबसे इंतज़ार में हूँ |

तो आज की कहानी में आपका नारायण चुद गया एक रंडी की टाइट चूत से | खा गए न धोखा कि किसी रंडी की चूत टाइट कैसे हो सकती है और मुझे कैसे मिल गयी | तो मौका था एक पार्टी का और मैं तो हूँ ही अपने शहर का एक नामी इंसान और मुझे कई बड़ी पार्टियों में आना जाना पड़ता है | तोजैसे ही मैं पार्टी में पहुंचा तो मुझे वहाँ पे कुछ लोगों ने घेर लिया और मुझे बात करने लगे और मुझे भी अच्छा लग रहा था क्यूंकि बड़े टाइम बाद मैं फ्री हुआ था और किसी पार्टी में गया था | वहाँ पुराने दोस्त मिले और कई बड़े लोग बाहर से भी आए थे जिनसे मैं रूबरू हुआ | उसके बाद मैंने सोचा चलो कुछ खा लिया जाए और मैं सबसे कोने के एक स्टाल पे गया जहाँ पे राबड़ी और जलेबी बन रही थी | वो लड़का मुझे जानता था क्यूंकि मैंने उसकी मदद की थी दूकान खोलने में और वो वहाँ का सबसे अच्छा मिस्त्री था | उसने मेरे लिए स्पेशल राबड़ी और जलेबी निकाली और गरमा गरम मुझे खाने के लिए दे दी |

मैंने खाते खाते देखा की एक लड़की है जो बहुत देर से लाइन में लगी है और उसे जलेबी मिल नहीं रही है | मैंने उस लड़के को इशारा किया और बोला की मैडम को मेरा वाला स्पेशल खिलाओ उसने तुरंत दो प्लेट दी एक मेरे लिए फिरसेऔरएक उस लड़की के लिए | उसने मुझे थैंक्स कहा और फिर हम दोनों बात करने लगे |उसने मुझे बताया वो इस शहर में नयी नयी आई है पड़ने के लिए और उसने ये भी बाताया कि उसने मेरा नाम बहुत सुना है | मैंने उससे पुछा आप मेरा नाम कैसे जानती हैं | तो उसने मुझे बताया वो मेरे ऑफिस आई थी इंटरव्यू के लिए और जब वो टेस्ट दे रही थी तब मैं आया था और सब खड़े हो गए थे | मैंने कहा हाँ सब बहुत इज्ज़त करते हैं मेरी क्यूंकि मैं सबसे बड़ा प्यार करता हूँ और सब मुझसे | उसने कहा काश मुझे आपके यहाँ नौकरी मिल जाती तो मुझे अपना काम बदलना नहीं पड़ता| मैंने पुछा क्यूँ क्या कर रही हो अभी आप उसने मुझे खुल के नहीं बताया | तो मैंने कहा कल आप मेरे ऑफिस आजाना किसी भी ब्रांच में फिर उसने कहा अगर सीट नहीं हुई तो |

तब मैंने कहा सीट अगर नहीं होगी तो एक नयी लगा देंगे और वो बहुत खुश हो गयी | मैंने उससे कहा सुनिए आप ज़रा किनारे में आइये और उसने कहा ठीक है और जैसे ही वो आई तो मैंने कहा लगता है आप कोई गलत काम कर रही है | उसने कहा नहीं ऐसा कुछ नही नहीं है मई कुछ गलत नहीं कर रही आपको ऐसा क्यों लगा | मैंने कहा मुझे लगता है जैसे मैंने आपको कही देखा है | उसने कहा सुनिए मैंने एक दो बार सेक्स कर लिया है पैसों के लिए क्यूंकि मेरे माँ बाप बहुत गरीब है और मुझे फीसभरनी थी | मैंने कहा आप मुझसे एक बार मिल तो लेती शायद आपको ये काम करना ही नहीं पड़ता | मैंने कहा एक गलत कदम इंसान की जिंदगी बर्बाद कर देता है और आप तो बहुत आगे निकल गयीं हैं | वो चुप रही और उसने कुछ नहीं कहा और धीरे से सुबक सुबक के रोने लगी मैंने कहा रोने से कुछ नहीं होगा आपको अब अपनारास्ता बदलना पड़ेगा | वो कहने लगी सर बस आप मुझे एक मौका दीजिये मैं आपको दिखा दूंगी कि मैं क्या कर सकती हूँ |

मैंने कहा बस आप कल आजाओ और दिखाओ आप क्या कर सकती हो | उसके बाद मैंने सोचाकि क्यूँ न मैं अपना लंड भी इसकी ढीली चूत में साफ कर लूँ और उसके बाद मैंने उसका इंतज़ार किया ऑफिस में | जैसे ही मैंने उसके आने की खबर सुनी मैंने कहा उसे सीधा मेरे पास भेजो| वो जैसे ही आई और उसने कहा सर आज बताइए लग रहीं हूँ न बिलकुल परी जैसी | मैंने उसे देखा और मेरे मुह से निकल गया माल लग रही हो | वो हसने लगी और कहने लगी सर आपके कितने रूप है आपके | आज आप बिलकुल अलग लग रहे हो | मैंने कहा बस तुमाहरा जादू है साहिबा | मैंने उसके कंधे पे हाथ रखा और कहा यार तुम न मास्टर निकली मेरा दिल तोड़ दिया तुमने | उसने कहा क्यों सर ऐसा क्या किया मैंने | मैंने कहा यार अगर तुमने सेक्स में कदम नहीं रखा होता तो आज ही तुमसे शादी की बात करलेता | उसने कहा सर तो क्या सेक्स ही सब कुछ है जज़्बात कुछ नहीं और उसकी आँख से आंसू निकल आए | मैंने उसकेआंसू पोंचे और उसे गले से लगा लिया और वो कहने लगी सर ये क्या है | मैंने कहा ये मेरे जज़्बात है |

वो भी अब मेरे काबू में थी और मैंने पुछा क्यों तुम्हरे साथ सेक्स कर लू क्या कंट्रोल नहीं हो रहा मुझसे| उसने कहा कर लो सर आप तो मेरे लिए किसी महात्मा से कम नहीं हो | मैंने सोचा अब जब ये तैयार है तो पीछे क्या हटना तबमैंनेकहा चलो मैं अपना केबिन बंद कर देता हु और सबको छुट्टी दे देता हूँ ताकि किसी को पता नहीं चले | उसने कहा सर जैसा आपको सही लगे | उसके बाद मैंने उसको पकड़ा और उससे कहा मेरी बाहों में आजाओ | मुझे तो यही लगा था कि वो रंडी है इसलिए मैंने उसे किस नहीं किया और सीधे उसके कपडे उतार के उसके दूध चूसने लगा | उसके बाद उसने मुझसे कहा सर मुझे आपको कुछ दिखाना है | उसने अपनी पेन्टी मेरे सामने उतारी और अपनी चूत को कोल्के मुझे दिखाने लगी | मैंने देखा कि उसकी चूत सील पैक है तो मैं दंग रह गया | मैंने उससे पोच्चा सेक्स के बाद भी सील पैक | उसने कहा सर सब बेवडे थे कोई चोद ही नहीं पाया | मैंने कहा बस अब से तू हो गयी मेरी और नाचे लगा और उसको किस करने लगा |

वो भी मुझे किस करने लगी और उसके बाद मैंने उसके बड़े दूध को पीना चालू कर दिया | फिर मैंने उसके निप्पल को चूस चूस के कड़क कर दिया | अब मैं उसके निप्पल को हलके से काट रहा था | वोअआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः कर रही थी | फिर मैंने उससे कहा अब तुमाहरी कोमल और कुंवारी चूत का स्वाद चख लेता हूँ | वो अपनी टाँगे फैला के टेबल पे लेट गयी और मैंने उसकी चूत में जीभ लगा दी | थोड़ी देर मैंने उसकी चूत चाटी जो की बहुत गीली थी | वी लगातार अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः कर रही थी |

उसके बाद मैंने अपना लंड निकाला और उसके बाद मैंने उसकी चूत को तरीके से चोदने के लिए तैयार हो गया | जैसे ही मैंने लंड उसकी चूत के अन्दर किया उसे दर्द हुआ और उसने कहा सर मत करो प्लीज | फिर मैंने उसकी चूत को चोदा और धीरे धीरे पूरा लंड अदर कर दिया | वोअआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः अआहा हाहा उऊंन्ह्ह हहहहा आआह्ह्हा आह्ह अहः अहहहः करके मज़े लेने लगी और उसके एक घंटे बाद हम दोद्नो एक दूसरे के अन्दर झड़ गए|

मैं उसे अभी भी चोदता हूँ और मज़े लेता हूँ और वो और मैं जल्द ही एक हो जाएंगे |


जिसकी कहानी पढ़ी उसका नंबर यह से डाउनलोड करलो Install [Download]
loading...

और कहानिया

loading...
2 Comments
  1. January 10, 2018 |
  2. SATISH KULKARNI
    January 10, 2018 |
loading...
loading...