हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम नवीन है और मैं मेरा पहला सेक्स एक्सपीरियंस लिखने जा रहा हूं. और मुझे आप जरूर इस पर कमेंट करें. इस कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि मैंने एक भाभी को पटा कर उसे इस तरह से चोदा. अब थोड़ा मेरे बारे में बता देता हूं. मेरी उम्र २२ साल है. और मैं एक ओपन माइंड का एक लड़का हूं. मेरी हाईट ५ फुट ११ इंच और यह घटना दिसंबर २०१५ में हुई. में उस वक्त  जालंधर में २ हफ्ते के लिए था. जालंधर में  अपने फ्रेंड के घर पर रुका हुआ था. वह दो मंजिला इमारत थी और हम ऊपर अकेले ही रहते थे. मेरे फ्रेंड का नाम लकी था और वह मेरा स्कुल के समय का बहोत अच्छा दोस्त था. में उसके घर सोया हुआ था और सुबह जल्दी ही मेरी आंख खुली. मैंने मेरी बेग से सिगरेट निकाली और फिर में टेरेस पर गया. थोड़ी ही देर में किसी ने आवाज लगाई लकी, इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम किसी ने आवाज लगाई तो में पीछे मुड़ा तो सामने वाले स्टेटस पर एक लेडी जो के एक एकदम पटाखा माल थी, और उसका चेहरा एकदम सुंदर था, एकदम हॉट टाइप का फिगर था, और वह सलवार सूट में वहां पर खड़ी थी. मैंने उन्हें देखते ही सिगरेट को नीचे फेंका उन्होंने कहा सॉरी मुझे लगा लकी खड़ा है, मैंने कहा कोई बात नहीं. मैं उसका फ्रेंड हूं नवीन मैं कोलकाता से हूं तो उन्होंने कहा सत अरी अकाल जी में रुपिंदर हु. तो इस तरह से हमारी कहानी की शुरुवात हुई और यह हमारी पहली मुलाकात थी.

में पूरा दिन उसके बारे में सोचता रहा की वह मेरे बारे में क्या सोच रही होगी के में सुभ सुभ उठ कर सिगरेट पि रहा था. और वह तो मुझे लकी समज बैठी थी. दूसरे दिन नाश्ते के समय वह घर पर आ गयी और फिर लकी ने हमारी फॉर्मल पहचान करवाई मैने कहा की हम दोनों पहले ही मिल चुके हे और फिर मैने लकी को उस दिन की सुबह वाली बात बताई. उसके बाद रोज सुबह टेरेस में हमारी बात हो जाती थी थोड़ी बहुत. और फिर १ हफ्ते के बाद मैंने उन्हें बताया कि मैं अगले हफ्ते जा रहा हूं और मैंने  पूछा की मुझे अपने घर के लोगो के लिए कुछ शोपिंग करनी हे. तो में कहा से करू? तो वह मुझे कुछ माल के बारे में बोलने लगी. मैने कहा की मुझे तो इस शहर के बारे में कुछ भी पता नहीं हे. तो उसने कहा कि मैं भी तुम्हारे साथ आना चाहूंगी. मैं यह सुनकर बहुत खुश हुआ और फिर मैंने प्लान बनाया कि मैं दोपहर को हम तीनो बहार के लिए चलेंगे. बजे

लेकिन मुझे कुछ स्पेशल करना था तो मैं जल्दी से नीचे गया और लकी को तैयार किया कि वह ना जाये हम लोगों के साथ. तब मेरे मन में सेक्स के बारे में  कोई बात नहीं थी. लेकिन फिर भी मुझे उस सेक्सी पंजाबी कुड़ी के साथ कुछ खास वक्त बिताना था. लेकी ने उनको कहा की वह नहीं जा सकता, तो भाभी ने कहा कोई बात नहीं. फिर मैंने लकी की बुलेट ली और हम लोग बाइक ले कर निकल पड़े. हमने उस के समय बाइक बहुत सारी बातें की. हमने पर्सनल लाइफ भी डिस्कस की  और हम लोग काफी फ्रेंक हो गए. हम लोग अलग अलग मोल में पहुंचे वहां, जाकर थोड़ा शॉपिंग किया और वापस आ गए.

भाभी को ड्राप करके उनके घर घर मेंने उन्हें  पर टैक्स किया.

में : मेरे साथ समय बिताने के लिए धन्यवाद

भाभी : अच्छा जी.. मैं जब साथ में थी तब कुछ बोले नहीं तुम.

मैं : मैं नहीं चाहता था कुछ सुनकर आपका मुड बिगड़ जाए.

भाभी : अरे नहीं जी.. अब हम बहुत अच्छे दोस्त हैं. तो दोस्त के साथ कैसी नाराजगी?

मैं : जाने से पहले एक बार मूवी देखने को चलें?

भाभी : अभी ठंडा रखो जी.. वह भी बता दूंगी.

फिर भाभी ऑफलाइन थी और रात को १२ बजे मैं गर्लफ्रेंड से बात कर रहा था तो उनका टेक्स्ट मैसेज आया.

भाभी : हे  हैंडसम.. अभी  भी  जाग रहे हो?

मैं : भाभी, आपकी याद सता रही है.

भाभी : भाभी के साथ फ्लर्ट?

मैं : हे हे आप तो ऑलरेडी बुक्ड हो चुकी हो कुछ नहीं होने वाला फ्लर्ट से..

भाभी : सोए क्यों नहीं अब तक? गर्लफ्रेंड से चैट कर रहे हो?

मैं : हां जी, देर से सोने की आदत है.

भाभी : इस वेदर में बहुत मिस कर रहे होगे.

मैं : बहुत ज्यादा मिस कर रहा हूं भाभी. सब आप जैसे लकी नहीं होते.

भाभी : मैं कैसे लकी हो गई जी?

मैं : आपके पास तो है ना आप को गर्म रखने के लिए आपके चलते फिरते हीटर?

भाभी : २   मिनट से ज्यादा नहीं मिलती उससे.

मैं : क्या मतलब?

भाभी : तुम पोगो देखो… बच्चे..  समझ तो गए हो फिर भी ड्रामा?

मैं : तो क्या करती हो आप 2 मिनट के बाद?

भाभी : तुम क्या करोगे अगर अभी गर्लफ्रेंड ने गर्म कर दिया तो?

मैं : अपना हाथ जिंदाबाद.

भाभी : मेरे पास भी उंगलिया है बच्चे.

मै :  कितनी उंगलियां?

भाभी : २ तो पूरी.

मैं : मेरी तो ३ उंगली जितनी मोटी है.

भाभी : चल झूठे.

मैं : इमेज सेंट.

भाभी : बाप रे इतना मोटा? तू तो फाड़ देगा मेरी..

मैं : बस अब दो तो आप की गर्मी दूर कर दूं.

भाभी : तूने मेरी भूख बढ़ा दी है… सुन तू चल कल ही मुझे तेरा लंड मेरी फुद्दी में लेना है.

मैं : मैं पहले से ही हीला रहा हूं भाभी.

भाभी : कभी गांड में डाला है?

मैं : नहीं भाभी.

भाभी : तेरी भाभी की गांड तेरे लिए गिफ्ट.

उसके थोड़ी देर बाद की और में हम दोनों सो गए.

अगले दिन उसने मुझे मैसेज किया तो मैं उसके घर पर पहुंच गया. हम दोनों वहा से  होटल पहुंच गए फिर उसने कहा मुझे चेंज करने के लिए १० मिनट चाहिए. तो मैंने कहा ठीक है और मैं स्मोकिंग करने लगा.

१० मिनट के बाद उसने मुझे बुलाया. मैं उसको देख कर पागल हो गया. उसने एक नाइटी पहनी थी अपनी जांघ तक और उसमें से क्लिवेज साफ साफ दिख रही थी. मैंरा तो उसको देखते ही कड़क हो गया. और वह मुझे देख कर हंसने लगी और बोली लगता है तुम्हारा बच्चा बहुत जल्दी में है. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

मैंने उनको खींचा अपनी तरफ और हम किस करने लगे. हमारी जीभ एक दूसरे के मुंह में जाकर लड़ाई करने लगी. फिर मैंने उसकी गर्दन पर चूमना शुरू किया. और वह पूरी तरह गरम हो चुकी थी. मुझे सब कुछ धीरे धीरे करना था तो मैं उसकी क्लीवेज पर गया और दोनों बूब्स उछलकर बाहर आ गए. फिर मैं उसे चूसने लगा और वह मोंन करने लगी. मैं चूस रहा था और बीच में काट रहा था. मैं उसके निपल को चूसने लगा तो  वह एकदम पागल हो गई.

फिर मैंने उसे बेड पर धकेला पर उसके पैर फैला दिए फिर मैंने एक तकिया उसकी गांड के नीचे रख दिया फिर मैं उसकी पैंटी के ऊपर से सूंघने लगा. और फिर मैंने अपने दांतों से उसकी पैंटी को नीचे खींचा. वह मेरी तरफ देख रही थी और उसने कहा प्लीज नवीन मेरी चूत को खा जाओ.

फिर मैं उसकी चूत पर टूट पड़ा और चाटने लगा. मैं उस पर थूक रहा था और चाट रहा था. वह एकदम से गीली  हो चुकी थी और मैं धीरे धीरे उस पर बाईट कर रहा था वह नवीन आह्ह्ह ओह्ह अह्ह्ह आई उह्ह्ह ओह्ह्ह खा जाओ इसे तेरे लिए ही करम है पूरी. फिर मैं उसकी चूत में अपनी जीभ डाल के चोदने लगा. और वह मेरा सर पकड़कर अंदर धकेलने लगी और फिर वह मेरा नाम लेते हुए जड़ गई.

उसने कहा कमीने तूने मुझे रंडी बना दिया. साले देख जड कर भी गर्मी नहीं उतरी मेरी. उसके के बाद वह मेरे ऊपर आ गई और मेरे ऊपर चढ़ गई और फिर वह मेरे लंड से अपने फेस पर रब करने लगी और फिर मेरे लंड को चाटने लगी. फिर मैं एकदम पागल हो रहा था. मुझे चोदेगा कमीने उसने यह कह कर मेरा लंड चूसना चालू कर दिया. उसने धीरे धीरे मेरा लंड पूरा अंदर तक ले लिया. और वह बार बार खांसने लगी लेकिन फिर भी वह मेरा लंड उसके मुह से निकाल नहीं रही थी.

मैंने लंड निकाला और उसे लिटाया. फिर मैंने अपने वेलेट से कंडोम निकाला, उसने रोक दिया उसने कहा मुझे ऐसे ही चोद. मुझे तुम्हारी गरमी को महसूस करना हे. फिर वह मेरे लंड को सहलाने लगी और कहने लगी डाल दे इसे प्लीज़ इस प्यासी रंडी की चूत में. अपने मोटे लंड से फिर मैंने धक्का मारा पर उसकी चूत बहुत टाइट थी. और मुझे उसके चेहरे पर दर्द साफ दिख रहा था लेकिन उसने मुझे नहीं रोका और अपने पैरों को फैला दिया. इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम

मैंने उसके पैरों को अपने कंधे पर रखा और मैं उसे जोर जोर से चोदने लगा.

भाभी : मुझे तेरी रंडी की तरह चोद दे साले. मुझे एक ओरत की तरफ चोद. मुझे पूरी ताकत से चोद. मुझे तेरे मोटे लंड से प्यार हो गया है.

मैं उसे पागलों की तरह चोद रहा था. फिर मैंने उसे हग कर लिया और वह मेरी पीठ पर अपने नाखून गढ़ाने लगी. मैं और गरम हो गया और मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और वह बहुत खुश हो रही थी.

वो चिल्लाने लगी मैं समझ गया कि वह अब झड़ने वाली है. मैं जोर जोर से उसे चोदने लगा, वह बोलने लगी की अब मेरा निकलने वाला है और जोर से करो.. और जोर से करो.. मुझे तुम्हारा लंड चाहिए. फिर मैंने अपना लंड बाहर निकालना चाहा लेकिन उसने कहा.. नहीं निकालो.. अंदर ही करो मुझे देखना है अंदर ले कर कैसा लगता है. और फिर मैं उसकी चूत में जडने लगा और फिर मैंने उसके चेहरे पर खुशी देखी.

loading...

Write A Comment