हेल्लो मेरे लंड के प्यासे दोस्तों भाभियों और लड़कियों मुझे बहित ख़ुशी हो रही है आज आपके पास आया हूँ क्यूंकि मैं बचपन से बहुत बड़ा चुदक्कड लौड़ा हूँ | मुझे तो ये भी पता है कि कभी किसी लड़की को चोदना हो और चुदवाना हो तो वो कब और कैसे क्या बोल्यती है और उसे क्या क्या पसंद होता है | मुझे तो यहाँ तक पता है कि मुझे जब नींद नहीं आती तो मैं मुठ मारता हूँ और लड़की अपनी चूत में ऊँगली करके पानी निकाल के सो जाती है | मैंने बहुत सारे लोगो के बारे में पढ़ा है और मैंने ये कभी नहीं देखा कि कोई भी लड़का किसी लड़की से ये कहता हो कि जानेमन मुझे आज तुम्हे कुत्तों कि तरह चोदना है | अरे भाई चोदना है तो चोदना है बकवास क्यों करते हो सीधा बोलो न जानू तुम मेरी कुतिया बन जाओ और हम दोनों चोदते हुए लॉक हो जाए | मैंने ये कभी नहीं कहा कि मुझे चूत चाहिए मैंने सीधा कहा मुझे तेरी चूत को भोसडा बनाना है | और मेरी बात का यकीन मानो लड्कित्यां मान भी जाती हैं | मुझे तो यहाँ तक पता है कि अगर आपको किसी लड़की की चूत बजानी है तो उसे खूब खिलाओ पिलाओ और उसके बाद उसकी चूत को चोदो |

तो आज कि ये कहानी आधारित है कुश्ती पे और में हूँ जग्गा बाबु और मैं गंगा मैया में रहता हूँ | दोस्तों वैसे तो मैं एक रंडीबाज इंसान हूँ पर मैंने कई चूत भी चोदी हैं और उनको इतना चोदा है कि वो दुबारा पानी न निकाल पाए | मेरा लंड बड़ा है और इतना मोटा है जैसे किसी ने इसे फौलाद से बनाया हो | आज मै आपको एक ऐसी कहानी बताऊंगा जो ना तो पहले आपने कभी सुनी होगी और न ही किसी ने इसे बताया होगा | मेरे कई दोस्त है जो सेक्स स्टोरी पढ़ते हैं और मुझे भी पढने को बोलते हैं पर मैंने उनसे कहा देखना सालों एक दिन तुम लोग मेरी कहानी पढोगे और मैं तुम्हे बताऊंगा कि चोदते कैसे हैं | वो लोग पहले मेरी बातों को मज़ाक में लेते थे पर मुझे पता था बहुत जल्द मैं इनको अपने आगे हाथ जोड़ते हुए देखने वाला हूँ | वो लोग कहते कि ऐसा क्या करेगा बाबु जिससे तेरी कहानी हम जैसे चुदाई के खिलाडी पढेंगे | मैंने कहा बस देखते जाओ सालों बाप हमेशा बाप होता है और लोंदे हमेशा लंड के नीचे होते हैं |

वो लोग मुझसे बहुत चमकते थे और मैं भी ये देखता रहता था कि उन्हें मेरे बारे में पता न चल जाए | पर मैं तो ठान के बैठा कि ऐसा कुछ होगा कि ये लोग खुद ब खुद मुझे सलाम ठोकेंगे | तो दोस्तों मेरे घर के पास एक मैदान है जिसको रामलीला मैदान बोलते है और वह पे कई लोग खेलने और प्रैक्टिस करने आते हैं क्यूंकि पास में ही स्कूल है | लड़कियां भी वह पर आती है क्यूंकि वो भी खेलों में भाग लेती रहती है | वह पे कुछ चट्टान हैं जहाँ पे लडकियां अपने कपडे उतारती हैं जैसे ब्रा पेंटी और बहुत कुछ और खेल के कपडे पहनती हैं | मैं हमेशा से यह बात जानता था पर मैंने किसी को बताया नहीं | क्यूंकि दूसरे लड़के हरामी हैं किसी भी लड़की कि इज्ज़त लूट लेते और मैं ऐसा नहीं हूँ | जैसा कि आपको पता है मैं तो सीधा काम कि बात पर आता हूँ चाहे कुछ भी हो जाए | मैंने लड़कियों के छोटे छोटे दूध उनकी बालों वाली चोट और बहुत सेक्सी बदन देखा है पर मुझे चोदने का मौका नहीं मिल रहा था क्यूंकि मुझे कोई एसी चीज़ चैये थी जिससे वो मेरे वश में हो जाएँ |

मैंने सोचा मुझे एक कैमरा लेना चैये जिसमे मैं इनको कैद कर लूं और उसके बाद इनको मस्त चोदुंगा और इनकी चूत को ऐसा फाड़ दूंगा कि ये लोग बस मुझे ही याद करें हर वक़्त | मैंने भी कैमरा लेने के लिए पहले अपनी गुल्लक तोड़ी और उसके बाद अपने बाप से पेसे लिए और एक अच्छा सा कैमरा लेके आया | मैंने पूरी तैयारी कर ली जिससे मैं उनकी सूरत और उनकी नंगी जन्नत को कैद कर लूँ और इन सब से मुझे कोई नहीं रोक पाएगा | मैंने जिस दिन कैमरा लिओया उस दिओं मैं पहाड़ी पे जाके बैठा तो मुझे कोई नहीं दिखा फिर मुझे याद आया आज तो रविवार का दिन है और मुझे कल तक का इंतज़ार करना पड़ेगा | मैंने सोचा चलो ठीक ही है कल आराम से करेंगे क्यूंकि उनको पूरा हफ्ता यहाँ आना पड़ता है और मुझे कुछ भी नहीं करना पड़ेगा सिवाए फोटो लेने के | इसके बाद मैं भी अपने घर कि तरफ निकल गया और खाना खाके सो गया | अगलियो सुबह हुयी तो मैंने सोचा चलो आज सुबह जाके देखते हैं कौन आता है क्यूंकि लडकियां तो शाम को तीन बजे आती हैं | सुबह सुबह जैसे ही मैं वहां पहुंचा तो देखा नयी नयी भाभियाँ वहां आती है और वो भी कभी कभी पहाड़ी के पीछे अपने कपडे उतार कर मालिश करने लगती थीं |

मैंने सोचा कि चलो अब तो मैं इन लोगों को भी अपना निशाना बनाऊंगा और इनको तरीके से चोदुंगा | मैंने फोटो लेने चालू कर दिया | अब एक हफ्ता बीत गया और मैंने कुछ नहीं तो दो सौ नंगी लड़कियों और भाभियों को कैद कर लिया था अपने कैमरे में | उसके बाद मैं उनके पीछे जाने लगा ताकि मेरा बोल चल शुरू हो जाए उनसे | मैंने एक भाभी से बात शुरू कि और धीरे से उसको कोने में ले जाके उसकी नंगी तस्वीर दिखाई और वो डरने लगी | मैंने कहा डरो मत कुछ नहीं होगा बस मुझे चोदने दो और उसके बाद इस फोटो को खुद अपने हाथों से मिटा देना | वो तैयार नहीं हुयी तो मैंने कहा ठीक है कल इसको तुमाहरे घर भेज दूंगा तब देखता हूँ कैसे तैयार नहीं होती तुम | उसने कहा ठीक है पर बस आज चोद लो बाकी कल से मैं यहाँ आउंगी भी नहीं मैंने कहा ठीक है मेरी जान आज तो चुद जाओ मुझसे | मैं उसे पहाड़ी के पीछे ले गया और उसके कपडे उतारे | उसके गोर गोर दूध और मस्त बुर ने मेरा मन हिला के रख दिया था | मेरा लंड एक दम टाइट था पर पहले मैंने उसके दूध पिए और वो मेरा साथ नहीं दे रही थी | पर जैसे ही मैंने उसकी चूत पे अपना मुह लगाया वो सिसक उठी | आआह्हह्हह्हह्ह ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह ऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आआआआअ आआह्हह्हह्हह्ह ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह ऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आआआआअ ऐसी आवाज़े निकालने लगी | अब वो मेरा लंड लेने को तैयार थी और मैंने उसकी गीली चूत में झट पट लंड डाल दिया और उसकी चीख निकल गयी | वो कहने लगी इतना बड़ा लंड मेरी चूत फाड़ दोगे क्या |

मैंने कहा अरे मेरी जान अभी तो शुरू हुआ है | उसने भी आआह्हह्हह्हह्ह ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह ऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आआआआअ आआह्हह्हह्हह्ह ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह ऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आआआआअ करना चालु रखा | फिर मैंने उसके नरम दूध पे मुह रखा और उसके निप्पल चूसने लगा और उसे और जोर से चोदने लगा | उसके बाद उसकी चूत से सफ़ेद सफ़ेद माल निकलने लगा और मेरे लंड पे गर्म गर्म एहसास हो रहा था | मैंने और जोर से चुदाई चालू की और उसकी चूत के अन्दर ही अपना माल गिरा दिया | वो उठी और अपने कपडे पहने और मैं नंगा ही लेटा था | फिर उसने मेरे लंड को पकड़ा और सहलाने लगी और उसे चूसने लगी मेरे बिना कुछ कहे उसने अपने दूध के बीच मेरा लंड रख के मसला और मुठ मरवा दिया | मैंने उसके सामने उसकी फोटो मिटा दी और उसने कहा कल फिर तैयार रहना | अब मैं भी मस्त हो गया त्यह बस अब इंतज़ार था तो शाम का क्यूंकि तब तीन लड़कियां आती थी | पर मैंने सोच लिया था कि इस बार मैं सीधे उनसे बात करूँगा आगे पीछे नहीं घूमूँगा |

वो सब आई और अपने कपडे उतारने लगी और मैं तुरंत ही वहां पहुँच गया | वो मुझे देखकर डर गयी और अपने कपडे जल्दी से पहने | मैंने उनसे कहा बस यही बदन मेरा लंड खड़ा कर देता है | तो उनमे से एक आई और लड़ने लगी मैंने कहा सुनो मेरी बात सब यहाँ आओ | मैंने उनको उन्ही कि नंगी तस्वीर दिखाई और कहा तीनो चुद जाओ मुझसे अभी नहीं तो ये फोटो सारा शहर देखेगा | वो तैयार हो गयी और मैंने तुरंत ही अपना लंड खोल दिया और कहा लो इससे खेलो | वो उससे खेल रही थी और मैं आआह्हह्हह्हह्ह ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह ऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आआआआअ आआह्हह्हह्हह्ह ऊऊऊओह्हह्हह्हह्हह ऊऊफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आआआआअ करने लगा | उसके बाद मैंने एक एक कि चूतर में लंड डाला और वो चिल्लाने लगीं | उसके बाद मैंने एक कि चोट चोदता और दूसरी के दूध पीता और तीसरी मेरी गांड चाटने लगती | ऐसे मैंने तीनो लड़कियों को इतना चोदा कि वो उठ नहीं पा रही थी | फिर मैंने उनको कहा देखो अब मैं थक गया हूँ और अब हम कल चुदाई करेंगे | अब मुझे दिन में कई बार चुदाई का मौका मिलने लगा और मुझे जिंदगी का असली मज़ा मिला |

दोस्तों आप लोग मेरी इस सच्ची कहानी पर अपनी राय देना मत भूलियेगा |

Write A Comment